NTA-NET (Based on NTA-UGC) Hindustani Music (Paper-II) Applied Theory-Detailed and Critical Study of Ragas Revision (Page 34 of 52)

Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 217 key topics of NTA-NET (Based on NTA-UGC) Hindustani Music (Paper-II) covering entire 2019 syllabus. Automatically get all new updates. Subscription can be renewed yearly absolutely FREE! View Features or choose a topic to view more samples.

Rs. 350.00 or

How to register?

राग देवसाख (Raga Devshakha)

स्वर आरोह में गन्धार, धैवत वर्ज्य। अवरोह में धैवत वर्ज्य। गन्धार, निषाद कोमल (क्वचित निषाद शुद्ध) । शेष शुद्ध स्वर। जाति औढव - षाढव वक्र। थाट काफी। वादी/संवादी पंचम/षड्ज। समय दिन का तीसरा प्रहर। आरोह-अवरोह सा रे म प नि१ सा′ - सा′ नि१ प म प ग१ म ग१ रे सा, नि१ सा;

राग छायानट (Raga Chayanata)

  • स्वर मध्यम दोनों। शेष शुद्ध स्वर। जाति सम्पूर्ण - सम्पूर्ण वक्र। थाट कल्याण। वादी/संवादी पंचम/रिषभ। समय रात्रि का दूसरा प्रहर । विश्रांति स्थान रे; ग; प; - सा’; प; रे; मुख्य अंग, प रे रे; रे ग म प; ग म रे सा; सा’ प रे ग; म ग म रे सा रे सा; आरोह-अवरोह सा रे ग रे; ग प म ग रे सा; सा रे ग म प ध नि सा′ - सा′ नि ध प म् प ध प; रे ग म प म ग रे सा; विशेष - इस राग को राग छाया भी कहते हैं। यह छाया और नट रागों का मिश्रित रूप है। शुद्ध मध्यम का प्रयोग आरोह और अवरोह में समान रूप से किया जाता है।

… (4 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

राग देवश्री (Raga Devshree)

  • स्वर गंधार व धैवत वर्ज्य। मध्यम तीव्र, निषाद कोमल। शेष शुद्ध स्वर। जाति औढव - औढव। समय रात्रि का दूसरा प्रहर। विश्रांति स्थान रे; म्; प; नि१; - नि१; प; म्; रे; मुख्य अंग रे म् प; म् प नि१ प; म् रे सा; , नि१, प, नि१ सा; आरोह-अवरोह सा रे म् प नि१ सा′ - सा′ नि१ प म् रे सा; विशेष - यह अपेक्षाकृत नया, मधुर और अप्रचलित राग है। इस राग में कोई वक्रता नही है। यह तीनों सप्तकों में उन्मुक्त रूप से गाया जा सकता है।

  • राग मेघ मल्हार के स्वरों में यदि मध्यम शुद्ध की जगह मध्यम तीव्र का उपयोग किया ज

… (1 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.