Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 483 key topics of CBSE-NET (UGC) Hindi Literature (Paper-II & Paper-III) covering entire 2017 syllabus. All the updates for one year are also included. View Features or choose a topic to view more samples.

Rs. 450.00 or

रीतिकाल के प्रथम कोटि (रीतिबद्ध) के आचार्य जसवंतसिह

बेनी बंदीजन: -असनी के बंदीजन बेनी सं. 1700 के लगभग वर्तमान में थे। इनका कोई प्रसिद्ध ग्रंथ नहीं है। हाँ कुछ फुटकर रचनाएँ अवश्य हैं। बुंंदेलखंड कविवर मंडन की 5 पुस्तकों का पता खोज से लग पाया है- रस रत्नावली, रस विलास, जनक पचीसी, जानकी जूको ब्याह और नैन पचास।

मतिराम

जीवन परिचय-रीतिबद्ध कवियों में इनका महत्वपूर्ण स्थान है। ये आदि आचार्य चिंतामणि के भाई थे। जन्मकाल सं.… (1134 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

दव्तीय कोटि के कवि (रीतिसिद्ध) रसिकगोविन्द

रसिकगोविन्द-

  • जीवन परिचय-रीतिकाल के अंतर्गत जिन भक्तों, ने आचार्यो-कर्म दव्ारा रीति-साहित्य को समृद्ध किया, उनमें रसिकगोविन्द का नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय है। इनका जन्म 1743 ई. के आसपास राजस्थान के जयपुर नगर में नाटणीगोत्रीय खंडेलवाल वैश्य -परिवार में हुआ था। कहा जाता है कि दैवी प्रकोप अथवा राजग्रकोप के कारण संपत्ति के नष्ट हो जाने पर यह वृन्दावन चले गये थे और निम्बार्क-संप्रदाय की रिव्यासीय गद्दी की… (486 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

f Page
Sign In