Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 483 key topics of CBSE-NET (UGC) Hindi Literature (Paper-II & Paper-III) covering entire 2017 syllabus. All the updates for one year are also included. View Features or choose a topic to view more samples.

Rs. 450.00 or

अष्ट छाप के अन्य कवि - चतुर्भुजदास

  • ये कुंभनदास के पुत्र थे, गोस्वामी विट्‌ठनाथ के शिष्य थे। अष्टछाप के कवियों में उनको सम्मानर्पूक स्थान प्राप्त था। इनकी बनाई हुई तीन रचनाएँ प्राप्त हुई है- दव्ादश यश, भक्ति प्रताप, हित जू को मंगल। माखन-चोरी संबंधी प्रसंग को लेकर उन्होंने अनेक सुन्दर पद लिखे। एक पद में गोपी यशोदा से कृष्ण की शिकायत कर रही है वो इस प्रकार हैं-

    ”जसोदा! कहा कहौं हौं बात?

    तुम्हरे सुत के करतब

… (78 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

कृष्ण काव्य की प्रमुख प्रवृत्तियाँ (विशेषताएँ)

  • उपर्युक्त कृष्णकाव्य की सर्वप्रथम प्रवृत्ति है- कृष्ण के लीला-रूप का अंकन। यूं परंपरा में कृष्ण और उनका चरित्र अपने विविध रूपों में चला आ रहा था, मगर इन कवियों ने कृष्ण के बाल और किशोर रूपों का ग्रहण किया वह भी मुख्यत: लौकिक रूप में है। इनके कृष्ण मुख्यत: बाल सुलभ क्रीड़ाएँ करने वाले साधारण ग्रामीण बालक हैं या फिर ’ रसिक शिरोमणि गोपी वल्लभ। यूं कहीं-कहीं उनका लोकनायक और

… (1096 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

f Page
Sign In