Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 483 key topics of CBSE-NET (UGC) Hindi Literature (Paper-II & Paper-III) covering entire 2017 syllabus. All the updates for one year are also included. View Features or choose a topic to view more samples.

Rs. 450.00 or

चन्दबरदाई व्यक्तित्व एवं कृतित्व

  • पृथ्वीराज रासो जैसे लोक-प्रसिद्ध ग्रंथ के रचनाकार ने लोक-प्रसिद्ध, इतिहास-प्रसिद्ध कवि चन्दबरदाई के जीवन-वृत्त के बारे में अनेक संदेह उत्पन्न किये गए हैं। यह आश्चर्य की बात है कि पृथ्वीराज रासो की प्रमाणिकता पर तो प्रश्न-चिन्ह लगाये गये हैं। साथ ही चन्दबरदाई के ऐतिहासिक अस्तित्व और पृथ्वीराज के समय में इसकी उपस्थिति को भी नकारने का दुस्साहस किया जा रहा है।
  • ज्ञातव्य है कि चन्दबरदाई अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान
… (465 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

रासो साहित्य

साहित्य का निर्माण परम्पराओं से होता है। कोई भी कवि किसी न किसी परम्परा का सहारा लेकर काव्य रचना की ओर प्रवृत्त होता है। हिन्दी साहित्य में प्रत्येक युग किसी न किसी परम्परा का सहारा लेकर ही निर्मित हुआ है। रासो काव्य -परम्परा इसका अपवाद नहीं हैं। रासो काव्य की परम्परायें हिन्दी साहित्य के प्रारम्भिक काल से शुरू होकर और निरन्तर निर्बाध रूप से विकसित होती रही है। इस परम्परा

… (1817 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

f Page
Sign In