IAS (Admin.) IAS Mains GS Paper 1 in Hindi (Geography, Art & Culture, and History) World History-World Wars Study Material (Page 5 of 5)

Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 283 key topics of IAS (Admin.) IAS Mains GS Paper 1 in Hindi (Geography, Art & Culture, and History) covering entire 2021 syllabus. With online notes get latest & updated content on the device of your choice. View complete topic-wise distribution of study material. Unlimited Access, Unlimited Time, on Unlimited Devices!

View Features or View Sample.

Rs. 500.00 -OR-

How to register? Already Subscribed?

शीत युद्ध: शीत युद्ध के कारण (Cold War: Causes of the Cold War)

Edit

युद्ध दव्तीय विश्वयुद्ध का एक महत्वपूर्ण परिणाम था। शीत युद्ध में हथियारों द्वारा प्रत्यक्ष विजय के विपरीत अन्य क्रियाकलापों और उपायों से प्रभुत्व विस्तार की नीति अपनायी जाती है। शीत युद्ध मूलत: राष्ट्रों के मध्य व्याप्त तनाव की एक ऐसी स्थिति का द्योतक है जिसमें दोनों पक्ष परस्पर शांतिकालीन कूटनीतिक संबंध बनाए रखते हुए भी शत्रुता की भावना रखते हैं। इस युद्ध में अपने पक्ष को प्रबल बनाने के लिए प्रचार-प्रसार, गुप्तचरों एवं षड़यंत्रों का सहारा लिया जाता है। अर्थात्‌ यह प्रत्यक्षत: आमने-सामने किसी युद्ध के …

… (9 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

शीत युद्ध: शीत युद्ध की प्रगति एवं विस्तार (Cold War: Progress and Expansion of the Cold War)

Edit

पूंजीवादी एवं साम्यवादी शक्तियों का यह शीत युद्ध 1917 से 1989 के बीच विभिन्न चरणों से गुजरते हुए सोवियत संघ के विघटन तक चला जब विश्व की एक ध्रुवीय सत्ता का केन्द्र संयुक्त राज्य अमेरिका के रूप में स्थापित हुआ। शीत युद्ध के दौर को हम निम्नलिखित चरणों में देख सकते हैं-

प्रथम चरण-1917 - 45

शीत युद्ध के प्रथम चरण की शुरुआत मूलत: रूस में 1917 में सफल बोल्शेविक क्रा…

… (50 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

Developed by: