World History-Industrial Revolution [IAS (Admin.) IAS Mains GS Paper 1 in Hindi (Geography, Art & Culture, and History)]: Questions 1 - 6 of 6

Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 640 questions. Access all new questions- tracking exam pattern and syllabus. View the complete topic-wise distribution of questions. Unlimited Access, Unlimited Time, on Unlimited Devices!

View Sample Explanation or View Features.

Rs. 750.00 -OR-

How to register? Already Subscribed?

Question 1

Industrial Revolution
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

आर्थिक महामंदी से निपटने के लिए किन नीतिगत साधनो का प्रयोग किया गया?

Explanation

अगर एक तरह से देखा जाए तो आर्थिक अवसान या आर्थिक मंदी पूंजीवादी अर्थव्यवस्था के तर्कशास्त्र में निहित है | क्योंकि पूंजीवाद का बल होता है -पूँजी पर अत्यधिक मुनाफा | मुनाफा श्रमिकों के अंश काटने के बाद ही संभव है | इसका स्वाभाविक परिणाम होता है -अल्प उपभोग | अल्प उपभोग के कारन बाजार सिमट जाता है और मंदी आ जाती है | वैसे तो पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में…

… (6 more words) …

Question 2

Industrial Revolution
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

क्या आप इस बात से सहमत है कि भारत के दक्षिणी राज्यों में नए चीनी मिलें खोलने की प्रवृति बढ़ गयी है? न्यायसंगत विवेचना कीजिए |

Explanation

कृषि आधारित उधोगों में कपडा उधोग के बाद चीनी उधोग का दूसरा स्थान है | कृषि आधारित उधोग होने के कारण कच्चे माल के रूप में गन्ना का मुख्यतः उपयोग होता है | यह एक जल गहन फसल है अतः जल की उपलब्धता तथा 25 - 30 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान वाले जलवायु में उपजाया जा सकता है | ऐसी जलवायवीय विशेषता दक्षिणी राज्यों में मिलती है | हाल के वर्षो में दक्षिणी राज्यों…

… (1 more words) …

Question 3

Industrial Revolution
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

भारत में अति विकेन्द्रीकृत सूती कपडा उधोग की स्थापना में कारको का विश्लेषण कीजिए |

Explanation

  • सूती वस्त्र उधोग भारत का एकमात्र संगठित उधोग है | इस समय सूती वस्त्र के उत्पादन में भारत का संसार में तीसरा स्थान है | रोजगार और औधोगिक उत्पादन की दृष्टि से यह बड़े उधोगो में से एक है | भारत में सूती वस्त्र उधोग की अवस्थिति कई कारको पर निर्भर करती है, जिनमे रंगाई तथा धुलाई के लिए विभिन्न प्रकार के रसायन, सस्ता तथा प्रचुर श्रम, मशीने, परिवहन, बाजार, …

… (5 more words) …

Question 4

Industrial Revolution
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

विलम्ब से होने वाली जापानी औधोगिक क्रांति में ऐसे करक भी थे जो पश्चिमी देशो के अनुभवों से बिलकुल भिन्न थे | विश्लेषण कीजिए |

Explanation

  • औधोगिक क्रांति का सूत्रपात 1780 ई. में ब्रिटेन में हुआ और यहाँ से यह यूरोप तथा विश्व के अन्य भागो में फैली | इस क्रांति ने मानव पर मशीन की श्रेष्टता स्थापित कर दी थी| इसके साथ ही घरेलू उद्योगों का स्थान फैक्ट्री प्रणालियों ने ले लिया | वर्तमान में विकसित राष्ट्रों के विकसित होने के पीछे औद्योगिक क्रांति का बड़ा हाथ है | जापान में औद्योगिक क्रांति का…

Question 5

Industrial Revolution
Edit

Appeared in Year: 2014

Describe in Detail

Essay▾

विश्व में घटित कौन सी मुख्य रणनीतिक, आर्थिक और सामाजिक गतिविधियों ने भारत में उपनिवेश विरोधी संघर्षो को प्रेरित किया?

Explanation

यूरोप में हुए औधोगिक क्रांति तथा इससे उत्पन्न व्यापारिक गतिविधियों के वैश्विक परिणामो के फ़लस्वरूप उपनिवेश शासन की अवधारणा आयी। इस अवधारणा का मुख्य उदेश्य मातृदेश के हितो की रक्षा थी।भारत को भी ब्रिटेन ने अपना उपनिवेश यही उदेश्यो से बनाया था। भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष के कई चरणों के बाद जाकर भारत को स्वतंत्रता मिली। भारतीय उपनिवेश विरोधी संघर्ष को प्…

… (2 more words) …

Question 6

Industrial Revolution
Edit

Appeared in Year: 2014

Describe in Detail

Essay▾

विश्व में लौह एवं इस्पात उद्योग के स्थानिक प्रतिरूप में परिवर्तन का विवरण दीजिए।

Explanation

  • विश्व में लौह-इस्पात उद्योग में संवृद्धि एवं विकास वैश्विक अर्थव्यवस्था का एक प्रमुख प्रतिबिम्ब है। वर्तमान में इस उद्योग ने अपनी संवृद्धि एवं उत्पादन पद्धति के परिवर्तनशील प्रवृति को प्रदर्शित किया है। परिवहन व्यवस्था में सुधार, मशीनीकरण तथा संचार के साधनों के विकास के कारण लौह-इस्पात उद्योग का स्थानीकरण समकालीन विश्व में स्थानीय आवश्यकता, आर्थिक …

… (10 more words) …

Developed by: