Modern Indian History-Personalities [IAS (Admin.) IAS Mains GS Paper 1 in Hindi (Geography, Art & Culture, and History)]: Questions 1 - 7 of 11

Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 640 questions. Access all new questions- tracking exam pattern and syllabus. View the complete topic-wise distribution of questions. Unlimited Access, Unlimited Time, on Unlimited Devices!

View Sample Explanation or View Features.

Rs. 750.00 -OR-

How to register? Already Subscribed?

Question 1

Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

अनेक प्रकार से लॉर्ड डलहौजी ने आधुनिक भारत नींव रखी थी| व्याख्या कीजिए|

Explanation

लॉर्ड डलहौजी की ख्याति एक महान साम्राज्यवादी तथा सुधारक क रूप में है | डलहौजी भारत में ब्रिटिश सम्राज्य को मजबूत करने आया था परन्तु वो आधुनिक भारत की नींव रख दिया | भारत में अंग्रेजी सत्ता के विस्तार और इसे एक सुसंगठित रूप स्वरूप प्रदान करने के लिए उसने कई उचित -अनुचित कदम उठाये , जो कालांतर में आधुनिक भारत का नींव सावित हुआ | उसके द्वारा किए गए सु…

… (11 more words) …

Question 2

Edit

Appeared in Year: 2009

Describe in Detail

Essay▾

विदेशी शक्ति को हटा लिया जाएगा लेकिन मेरे अनुसार वास्तविक स्वतंत्रता का तभी आगमन होगा जब हम अपने आपको पश्चिमी शिक्षा, पश्चिमी संस्कृति और पश्चिमी जीवन शैली से मुक्त कर लेंगे, जो हमारे अंदर कूट-कूट कर भर दी गई है। (150 शब्द)

Explanation

  • भारत में ब्रिटिश सत्ता की स्थापना के बाद आधुनिक पश्चिम के विचार एवं संस्कृति के साथ हमारा संबंध स्थापित हुआ। धीरे-धीरे हम पश्चिमी जीवन शैली को भी अपनाने लगे। इस प्रकार हम पर पश्चिम के संस्कार एवं विचार हावी होने लगे। आरंभिक राष्ट्रवादी चिंतक एवं नेता भी ब्रिटिश शासन एवं पश्चिमी विचार को भारत के लिए उपयोगी मानते थे। भारत के आधुनिकीकरण के लिए भी वे इ…

… (2 more words) …

Question 3

Edit

Appeared in Year: 1997

Describe in Detail

Essay▾

महात्मा गांधी की ‘बेसिक शिक्षा’ की अवधारणा की विवेचना कीजिए रूढ़िगत शिक्षा पद्धति से यह कहाँ तक भिन्न है? (150 शब्दों)

Explanation

  • गांधी जी द्वारा बेसिक शिक्षा की विचारधारा को विकसित किया गया था, जिससे व्यक्तिगत और सामाजिक रचनात्मक गुणों को विकसित करने का अवसर मिलता है। गांधी जी के अनुसार शिक्षा आत्मनिर्भर व राष्ट्रीय आवश्यकताओं के अनुसार होनी चाहिए। इसके तहत शारीरिक प्रशिक्षण, स्वच्छता तथा स्वावलंबन पर बल प्रदान करने की बात गांधी जी द्वारा कही गई। उनके अनुसार शिक्षा किसी न कि…

… (2 more words) …

Question 4

Edit

Appeared in Year: 2014

Describe in Detail

Essay▾

पानीपत का तीसरा युद्ध 1761 ई. में लड़ा गया था। क्या कारण है कि इतनी साम्राज्य-प्रकम्पी लड़ाइयाँ पानीपत में लड़ी गई?

Explanation

  • ऐतिहासिक नजरिए से देखा जाए तो पानीपत के मैदान पर ऐसी तीन ऐतिहासिक लड़ाईयां लड़ीं गईं, जिन्होंने पूरे देश की तकदीर और तस्वीर बदलकर रख दी थी। पानीपत की तीसरी और अंतिम ऐतिहासिक लड़ाई 250 वर्ष पूर्व 14 जनवरी, 1761 को मराठा सेनापति सदाशिव राव भाऊ और अफगानी सेनानायक अहमदशाह अब्दाली के बीच हुई थी। हालांकि इस लड़ाई में मराठों की बुरी तरह से हार हुई थी, इसके बा…

… (1 more words) …

Question 5

Edit

Appeared in Year: 2007

Describe in Detail

Essay▾

स्वतत्रंता के लिए भारत के संघर्ष के उद्देश्य को भगत सिंह द्वारा निरूपित क्रांतिकारी आतंकवाद के योगदान का मूल्यांकन कीजिए (250 शब्द)

Explanation

  • भारतीय स्वतंत्रता का आंदोलन सीमित अर्थ में भारतीयों के लिए स्वशासन एवं प्रशासन में उनकी भूमिका के संवैधानिक मांगों से आरंभ हुआ पर कुछ लोग ऐसे भी थे जो संवैधानिक मांगों की इस नीति एवं सीमित स्वायत्ता के पक्षधर नहीं थे। वे इन मांगो को भिक्षावृत्ति की संज्ञा देते थे। उनका विश्वास था कि स्वतंत्रता के लिए हिंसक एवं सशक्त आंदोलन आवश्यक है। इस प्रकार भारत…

… (1 more words) …

Question 6

Edit

Appeared in Year: 2009

Describe in Detail

Essay▾

अनेक अंग्रेज ईमानदारी से अपने आपको भारत का न्यासी मानते हैं और फिर भी उन्होंने हमारे देश को किस दशा तक गिरा दिया है। (150 शब्द)

Explanation

  • गांधी और नेहरू भारतीय राजनीति के दो महत्वपूर्ण हस्ताक्षर हैं। दोनों के राष्ट्र निर्माण समाज के विकास एवं समृद्धि को लेकर अपने-अपने दृष्टिकोण हैं। गांधी ने व्यापक आर्थिक हित का ध्यान रखते हुए ट्रस्टीशिप का सिद्धांत दिया। उनका मानना था कि पूंजीपति वर्ग अपने आप को देश की गरीब जनता का ट्रस्टी (सरंक्षक) मानते हुए अपने पूंजी एवं लाभ का इस प्रकार विनियोजन…

Question 7

Edit

Appeared in Year: 2006

Describe in Detail

Essay▾

समय में दूरी के होते हुए भी लार्ड कर्जन और जवाहर लाल नेहरू के बीच अनेक समानताएं थी। चर्चा कीजिए। (250 शब्द)

Explanation

  • लार्ड कर्जन 1898 में भारत का गवर्नर जनरल बना एवं 1905 तक इस पद पर रहा। इस समय तक नेहरू का राष्ट्रीय रंगमंच पर उदय नहीं हुआ था। वे असहयोग आंदोलन के दौरान 1920 - 22 की अवधि में भारतीय राजनीति में सक्रिय हुए। इसके बाद राष्ट्रीय आंदोलन में उन्होंने अपने लिए एक विशेष स्थान बनाया। 1929 के लाहौर अधिवेशन तक वे एक महत्वपूर्ण हस्ती बन चुके थे। इसके बाद गांधी…

… (3 more words) …

Developed by: