Modern Indian History [IAS (Admin.) IAS Mains GS Paper 1 in Hindi (Geography, Art & Culture, and History)]: Questions 29 - 35 of 66

Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 640 questions. Access all new questions- tracking exam pattern and syllabus. View the complete topic-wise distribution of questions. Unlimited Access, Unlimited Time, on Unlimited Devices!

View Sample Explanation or View Features.

Rs. 750.00 -OR-

How to register? Already Subscribed?

Question 29

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 1992

Describe in Detail

Essay▾

‘रेलवे ने भारत में वह किया जो अन्य और ने नहीं किया इसने परिवहन स्थिति के स्वरूप को बदलकर हस्तशिल्प को यांत्रिक उद्योग में बदलने की गति में शीघ्रता प्रदान की’ विवेचन कीजिए (150 शब्दों)

Explanation

  • 1853 ई. में लार्ड डलहौजी के प्रयासों के परिणामस्वरूप भारत में पहली रेल लाइन बंबई से थाने तक चालू कर दी इसके पश्चात्‌ तेजी से रेल का विकास हुआ। इससे भारत में औद्योगीकीरण की प्रक्रिया प्रारंभ हुई, लेकिन यह काम हस्तकला की कीमत पर हुआ। देशी उद्योगों का विनाश, जो परंपरागत तकनीक से निर्मित थी, विदेशी वस्तुओं से प्रतिस्पर्द्धा कर पाने में असफल थी, जो मशीन

… (4 more words) …

Question 30

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2009

Describe in Detail

Essay▾

अनेक अंग्रेज ईमानदारी से अपने आपको भारत का न्यासी मानते हैं और फिर भी उन्होंने हमारे देश को किस दशा तक गिरा दिया है। (150 शब्द)

Explanation

  • गांधी और नेहरू भारतीय राजनीति के दो महत्वपूर्ण हस्ताक्षर हैं। दोनों के राष्ट्र निर्माण समाज के विकास एवं समृद्धि को लेकर अपने-अपने दृष्टिकोण हैं। गांधी ने व्यापक आर्थिक हित का ध्यान रखते हुए ट्रस्टीशिप का सिद्धांत दिया। उनका मानना था कि पूंजीपति वर्ग अपने आप को देश की गरीब जनता का ट्रस्टी (सरंक्षक) मानते हुए अपने पूंजी एवं लाभ का इस प्रकार विनियोजन

Question 31

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2006

Describe in Detail

Essay▾

समय में दूरी के होते हुए भी लार्ड कर्जन और जवाहर लाल नेहरू के बीच अनेक समानताएं थी। चर्चा कीजिए। (250 शब्द)

Explanation

  • लार्ड कर्जन 1898 में भारत का गवर्नर जनरल बना एवं 1905 तक इस पद पर रहा। इस समय तक नेहरू का राष्ट्रीय रंगमंच पर उदय नहीं हुआ था। वे असहयोग आंदोलन के दौरान 1920 - 22 की अवधि में भारतीय राजनीति में सक्रिय हुए। इसके बाद राष्ट्रीय आंदोलन में उन्होंने अपने लिए एक विशेष स्थान बनाया। 1929 के लाहौर अधिवेशन तक वे एक महत्वपूर्ण हस्ती बन चुके थे। इसके बाद गांधी

… (3 more words) …

Question 32

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 1993

Describe in Detail

Essay▾

‘अगस्त प्रस्ताव से माउन्टबेटन योजना एक तर्कसंगत क्रम विकास था’ विवेचन कीजिए। (250 शब्दों)

Explanation

  • दव्तीय विश्व युद्ध में भारतीयों का सहयोग व समर्थन प्राप्त करने के उद्देश्य से भारतीयों को संतुष्ट करने के लिए वायसराय लार्ड लिनलिथगों ने 8 अगस्त, 1940 को अगस्त प्रस्ताव प्रस्तुत किया। यद्यपि प्रस्ताव में भारतीयों को औपनिवेशिक स्वराज्य प्रदान करने का आश्वासन दिया गया तथा अल्पसंख्यकों को भी अधिकार प्रदान किए गए। लेकिन प्रस्ताव में अल्पसंख्यकों को जरू

Question 33

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2004

Describe in Detail

Essay▾

असहयोग आंदोलन का समालोचनात्मक आकलन कीजिए (250 शब्दों)

Explanation

  • गांधी जी दव्ारा असहयोग आंदोलन चलाने के मूल में अनेक घटनाओं का महत्वपूर्ण योगदान था। जिसमें प्रथम विश्व युद्ध के बाद की परिस्थितियां, रौलेट एक्ट, 1919 सुधार अधिनियम, जलियावाला बाग हत्याकांड, खिलाफत आंदोलन इत्यादि प्रमुख हैं। असहयोग आंदोलन के परिणामस्वरूप गांधी जी सहित कई अन्य नेताओं ने भी उपाधियाँं वापस कर दी। सी. आर. दास, मोतीलाल नेहरू, राजेन्द्र प

… (4 more words) …

Question 34

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 1993

Describe in Detail

Essay▾

“1916 के लखनऊ समझौते पर, बिना इसके परिणामों पर विचार किए हस्ताक्षर कर दिए गए।” व्याख्या कीजिए। (150 शब्दों)

Explanation

  • 1916 में लखनऊ में कांग्रेस व मुस्लिम लीग का अधिवेशन साथ-साथ हुआ कांग्रेस-लीग में एक समझौता भी हुआ जो “लखनऊ पैक्ट” (संधि) के नाम से विख्यात है। समझौते के अनुसार कांग्रेस ने मुसलमानों के लिए सांप्रदायिक निर्वाचन प्रणाली तथा उनके अधीन प्रतिनिधित्व की मांग को स्वीकार लिया।
  • विभिन्न प्रांतीय व्यवस्थापिका सभाओं में निर्वाचित भारतीय सदस्यों की संख्या के निश

… (4 more words) …

Question 35

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 1999

Describe in Detail

Essay▾

19वीं शताब्दी के अंत से लेकर लार्ड कर्जन के वायसराय के पद पर बने रहने तक तिब्बत के प्रति रही ब्रिटिश नीति का विवेचन कीजिए। (150 शब्दों)

Explanation

  • तिब्बत सामरिक दृष्टिकोण से रूस, चीन एवं ब्रिटिश सरकार के लिए एक महत्वपूर्ण केन्द्र था। 1890 तक तिब्बत के दक्षिण में एक शक्तिशाली ब्रिटिश साम्राज्य की स्थापना हो चुकी थी, यह एशिया की राजनीति का केन्द्र बन गया था। भारत की अंग्रेजी सरकार की तिब्बत में केवल व्यापार के लिए रुचि थी, क्योंकि इस विशाल औद्योगिक राष्ट्र को अब भी मंडियों की आवश्यकता थी।
  • इसी सम