Modern Indian History [IAS (Admin.) IAS Mains GS Paper 1 in Hindi (Geography, Art & Culture, and History)]: Questions 1 - 7 of 66

Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 640 questions. Access all new questions- tracking exam pattern and syllabus. View the complete topic-wise distribution of questions. Unlimited Access, Unlimited Time, on Unlimited Devices!

View Sample Explanation or View Features.

Rs. 750.00 -OR-

How to register? Already Subscribed?

Question 1

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

उन परिस्थितियों का समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए जिनके कारण भारत को बांग्लादेश के उदय में निर्णायक भूमिका निर्वहन करना पड़ा |

Explanation

पाकिस्तान का निर्माण इस विचारधारात्मक सिद्धांत पर किया गया था कि अपने धार्मिक विश्वाश के कारण भारत के मुसलमान एक अलग कौम है | परन्तु पंजाबी भाषी पश्चिमी पाकिस्तान और बंगला भाषी पूर्वी पाकिस्तान को साथ बांधे रखने के लिए धर्म ही काफी नहीं था | पश्चिमी पाकिस्तान के राजनितिक और आर्थिक अभिजातों ने शीघ्र ही पाकिस्तान के सैनिक , प्रशाशनिक , आर्थिक , और रा…

… (2 more words) …

Question 2

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

आचार्य विनोवा भावे के भूदान व ग्रामदान आंदोलनों के उद्देश्य की समालोचनात्मक विवेचन कीजिए और उसकी सफलता का आकलन कीजिए |

Explanation

  • भूदान व ग्रामदान भूमि सुधर करने , कृषि में संस्थागत परिवर्तन लेन का स्वंसेवी प्रयास था | जिसमे भूमि का पुनर्वितरण सिर्फ सरकारी कानूनों के जरिये नहीं बल्कि एक आंदोलन के जरिए करने की कोशिश थी | प्रसिद्ध गाँधीवादी रचनात्मक कार्यकर्ता आचार्य विनोवा भावे ने पचास के दशक के आरम्भ में इस आंदोलन के लिए गाँधीवादी तकनीकों एवं रचनात्मक कार्यो तथा ट्रस्टीशिप जै…

… (9 more words) …

Question 3

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

दक्षिण भारत के राजनैतिक इतिहास की दृष्टि से अधिक उपयोगी न होते हुए भी संगम साहित्य उस समय की सामाजिक और आर्थिक स्थिति का अत्यंत प्रभावी शैली में वर्णन करता है | टिप्पणी कीजिए |

Explanation

  • संगम साहित्य की रचना कृष्णा -तुंगभद्रा नदियों के दक्षिण के भू-भाग में स्थित प्राचीन तमिलकम प्रदेश में हुई | संगम साहित्य की रचना पांडय शाशको के संरक्षण में 100 - 250 ई. के मध्य माना जाता है | सुदूर दक्षिण भारत के इतिहास के पुनर्निर्माण में संगम साहित्य की महत्वपूर्ण भूमिका है | इसलिए इस काल को संगम काल भी कहा जाता है | संगम साहित्य समकालीन राजनैतिक…

… (6 more words) …

Question 4

Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

उन परिस्थितियों का विश्लेषण कीजिए जिनके कारण वर्ष 1966 में ताशकंद समझौता हुआ | समझौते की विशिष्टताओं की विवेचना कीजिए |

Explanation

वर्ष 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के पश्चात् पूर्व सोवियत संघ के ताशकंद नगर में 4 से 10 जनवरी, 1966 को भारत के प्रधानमंत्री एवं पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने सोवियत प्रधानमंत्री कोसिगिन की पहल पर शिखर सम्मलेन में हिस्सा लिया | भारत तथा पाकिस्तान के मध्य इस सम्मलेन में हुए समझौते को ताशकंद समझौते के नाम से जाना जाता है | इस घोषणा पत्र के अनुसा…

… (3 more words) …

Question 5

Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

प्रादेशिकता की बढ़ती हुई भावना, पृथक राज्य की मांग का प्रमुख कारण है | विवेचना कीजिए |

Explanation

  • भारत जैसे विशाल देश के विभिन्न भागो में विभिन्न जातियों, प्रजातियों, धर्मो, भाषाओं तथा रीति-रिवाज वाले लोग रहते है और उनकी आर्थिक परिस्थितिया भी भिन्न है | ऐसी पृष्ठभूमि में प्रादेशिक चेतना का जागृत होना स्वाभाविक है | शब्द ‘प्रादेशिकता’ के दो अर्थ हैं नकारात्मक अर्थों में, यह किसी के क्षेत्र में अत्यधिक लगाव को देश या राज्य को प्राथमिकता देता है। …

Question 6

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

स्वतंत्रता पूर्व तथा स्वतंत्रता उपरांत भारत में मौलाना अबुल कलाम आज़ाद के योगदानों की विवेचना कीजिए|

Explanation

  • भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में मौलाना अबुल कलाम आज़ाद का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है | मलना अबुल कलाम आज़ाद भारत के उन अग्रणी राष्ट्रवादी नेताओं में से एक है जिन्होंने न केवल राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रीय रूप से भाग लिया , बल्कि स्वतंत्रता उपरांत भी देश की एकता , स्थिरता एवं विकास में भी योगदान दिया | वे एक ऐसे राष्ट्रवादी मुस्लमान …

… (4 more words) …

Question 7

Modern Indian History
Edit

Appeared in Year: 2013

Describe in Detail

Essay▾

अनेक विदेशियों ने भारत में बसकर विभिन्न आंदोलनों में भाग लिया | भारतीय स्वाधीनता संग्राम में उनकी भूमिका का विश्लेषण कीजिए |

Explanation

अंग्रेजों के अत्याचार के खिलाफ भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में कई प्रबुद्ध विदेशी नागरिकों ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया| उन्होंने भी भारतीयों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आजादी की अलख जगाने में अहम भूमिका निभाई| इनमें एओ हयूम, एनी बेसेंट, सी एफ एंड्रूज का अहम योगदान रही | इन्होंने भारतीयों की दशा-दिशा सुधारने में अहम भूमिका निभाई | ऐसे महँ विभूति निम्नलि…

… (9 more words) …

Developed by: