Writing Essay (IAS (Admin.) IAS Mains Compulsory-Hindi): Questions 30 - 51 of 53

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 199 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

Question number: 30

» Writing Essay

Appeared in Year: 2011

Essay Question▾

Describe in Detail

रफ्तार की संस्कृति जल्दबाजी और अपराधवृत्ति को जन्म देती है

Explanation

प्रस्तावना - हमारे देश में अनेक प्रकार की संस्कृति विद्यमान रहती है। जैसे सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक व नैतिकता है, इससे संबंधित कोई भी कर जल्दबाजी करने से अपराध का जन्म होता है व अनेक प्रकार की कठिनाई उत्पन्न होती है। सही ढ़ंग से कोई कार्य न करने पर उसका परिणाम बुरा ही होता है। हमारे देश में अनेक प्रकार के अपराध होते है, जैसे वैश्यावृत

… (2284 more words) …

Question number: 31

» Writing Essay

Appeared in Year: 2012

Essay Question▾

Describe in Detail

भारत: व्यापारिक विकास का एक उभरता हुआ क्षेत्र

Explanation

प्रस्तावना - विश्व के सभी देशों में आज विकास के पथ पर एक-दूसरे से आगे निकल जाने की होड़-सी मची है, जिसमें से एक देश भारत है, जिसका व्यापारिक विकास अब धीरे-धीरे हो रहा है। भारत न सिर्फ भारत के अन्दर बल्कि भारत के बाहर भी अपना व्यापार का विकास प्रारम्भ किया जो दूसरों देशों के आयात-निर्यात करता है। विगत दशकों में भारत का व्यापारिक विकास उत्साहवर्द्ध

… (2942 more words) …

Question number: 32

» Writing Essay

Appeared in Year: 2010

Essay Question▾

Describe in Detail

अन्धविश्वास बनाम तर्कणापरकता

Explanation

प्रस्तावना - बिल्ली के रास्ता काट देने से यह समझना कि आगे दुर्घटना होने के आसार है, कहीं जाते समय कोई छींक दे तो यह समझना की होने वाला काम बिगड़ जाएगा, छत पर कौवे के बोलने का यह अर्थ निकालना की कोई मेहमान आने वाला है, आदि ऐसी अनेक धारणाएँ समाज में प्रचलित है, जिनका कोई तार्किक अथवा वैज्ञानिक आधार नहीं है, फिर भी लोग इन बातों में विश्वास करते है।

… (3279 more words) …

Question number: 33

» Writing Essay

Appeared in Year: 2010

Essay Question▾

Describe in Detail

क्या कानून ‘मानरक्षा हत्याएँ’ रोक सकता है?

Explanation

प्रस्तावना - प्रत्येक व्यक्ति समाज का एक अंग माना जाता है। समाज में अपनी-अपनी अनेक समस्याएँ होती है, रीति-रिवाज, प्रथाएँ होती है। हमारे देश में स्वतंत्रता प्राप्ति के साथ ही अनेक समस्याएँ उभरी है, जैसे छुआछुत, अशिक्षा, दहेज प्रथा, बाल विवाह, जनसंख्या वृद्धि, कुपोषण भाग्यवादिता, शोषण उत्पीड़न, बेरोजगारी, अन्धविश्वास, आर्थिक विषमता आदि अनेक समस्याओ

… (2655 more words) …

Question number: 34

» Writing Essay

Appeared in Year: 2010

Essay Question▾

Describe in Detail

शिक्षा और सामाजिक परिवर्तन

Explanation

प्रस्तावना - मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है। सामाजिक संस्थाओं के सम्पर्क में आकर वह विभिन्न प्रकार की सामाजिक क्रियाओं में भाग लेता रहता है। शिक्षा के कई उद्देश्यों में से एक, समाज के इन संस्थाओं से समायोजन के लिए व्यक्ति या सामाजिक विकास भी होता है। कोई भी समाज अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति शिक्षा के पाठ्यक्रम का भी निर्धारण करता है। भारत में शिक्षा क

… (2370 more words) …

Question number: 35

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

अनमोल रत्न

Explanation

प्रस्तावना: - अटल बिहारी वाजपेयी। एक ऐसा नाम और व्यक्तित्व जिसे चंद शब्दों या पन्नों में नहीं समेटा जा सकता। जिंदगी के हर मोड़ और अवस्था में जो किया, बेजोड़ किया। न सिर्फ र्कीतिमान बनाए बल्कि नए मूल्य भी स्थापित किए। पढ़ाई के दौरान होनहार छात्र रहे। युवा होनें में राजनीति में आए और संसद पहुंचे तो उनके प्रधानमंत्री बनने की भविष्यवाणी हो गई। वाकपटुत

… (7286 more words) …

Question number: 36

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

जलवायु परिवर्तन

Explanation

प्रस्तावना: - सम्पूर्ण विश्व आज जिस बड़ी समस्या से जूझ रहा है वह है- जलवायु परिवर्तन है। आज एक ऐसी विश्वस्तरीय समस्या का रूप ले चुका है, जिसके समाधान के लिए आज सम्पूर्ण विश्व - समाज को संयुक्त रूप से अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सतत प्रयास करने की आवश्यकता है। सम्पूर्ण मानव जाति के अस्तित्व को समाप्त कर सकने में सक्षम इस वैश्विक समस्या पर अब समस्त वि

… (8739 more words) …

Question number: 37

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

जल

Explanation

प्रस्तावना: - ’जल है तो कल है’ यह सब जानते हैं लेकिन मानते नहीं। पानी के बढ़ते संकट को लेकर हर साल सरकारी गैर सरकारी रिपोर्टों में चिंता जताई जाती है। फिर बनती हैं सरकारी योजनाएं और खर्च होता है जनता का पैसा। जल संरक्षण के नाम पर बनने वाली बड़ी-बड़ी योजनाओं का हश्र भी सबके सामने है। हममें से अधिकांश लोग सरकार के भरोसे छोड़कर आने वाले कल को सुरक्षित

… (8097 more words) …

Question number: 38

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

सिस्टम

Explanation

प्रस्तावना: - कर्नाटक में एक आईएएस अधिकारी डीके रवि कुमार की संदिग्ध हालात में मौत से उठने वाले सवाल ने हमारे पूरी प्रणाली को ही संदेह के घेरे में खड़ा कर दिया है। सबसे पहला सवाल तो यही है कि भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी का भी सिस्टम की कमियों के आगे यह हाल हो सकता है तो अन्य छोटे अधिकारियों की स्थिति की तो सिर्फ कल्पना ही की जा सकती

… (9276 more words) …

Question number: 39

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

स्वाइन -फ्लू

Explanation

प्रस्तावना: - देश के कई हिस्सों में स्वाइन फ्लू का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। यह वायरस अधिकतर अक्टूबर - नवम्बर में लोगों को अपनी चपेट में लेता है लेकिन इस बार जनवरी और फरवरी में भी इसका असर दिख रहा है। मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। सरकारी चिकित्सा तन्त्र सक्रिय हुआ है लेकिन जो तत्परता होनी चाहिए, वह दिख नहीं रहा है। सबसे पहले 1918 में स्

… (11079 more words) …

Question number: 40

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

सोना उड़ा न दे नींद

Explanation

प्रस्तावना: - सोने के प्रति भारतीयों का प्रेम कोई नई बात नहीं है। भारत सोने का आयात करने वाले देशों में अव्वल रहा है। सोने के इस आयात का असर भारत के व्यापार घाटे में भी दिखता रहा है। इसी के चलते यूपीए-2 सरकार को सोना न खरीदने की अपील करने के साथ ही सोने के आयात पर कई अंकुश लगाने पड़े थे। नई सरकार ने इस साल के मध्य में सोने के आयात पर लगे अंकुशों

… (7191 more words) …

Question number: 41

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

रेपो रेट

Explanation

प्रस्तावना: - स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने गुरूवार को ही अपने होम लोन कस्टमर को होम लोन की ही दर पर पर्र्र्सनल लोन देने की पेशकश की है, जबकि पिछले बुधवार को रिजर्व बैंक ने अचानक एक बार फिर से रेपो दर में कमी कर दी थी। यह दर डेढ़ माह में दूसरी बार कम की गई। रिजर्व बैंक रेपो और सीआरआर का इस्तेमाल करते हुए इकोनॉमी को प्रभावित करता है। बैंको से संबंधित इ

… (8691 more words) …

Question number: 42

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

परहित सरिस धरम नहिं भाई

Explanation

प्रस्तावना: - “परहित सरिस धरम नहिं भाई।”

परहित पर पीड़ा सम नहिं अधभाई।।”

अर्थात- परोपकार से बढ़कर कोई उत्तम कर्म नहीं और परपीड़ा से बढ़कर कोई नीच कर्म नहीं। परोपकार की भावना ही वास्तव में व्यक्ति को मनुष्य बनाती है। कभी किसी भूखे व्यक्ति को खाना खिलाते समय चेहरे पर व्याप्त संतुष्टि के भाव से जिस असीम आनन्द की प्राप्ति होती है, वह अवर्णनीय है।

… (7817 more words) …

Question number: 43

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

सरकारी विज्ञापन

Explanation

प्रस्तावना: - सर्वोच्च न्यायलय ने सरकारी विज्ञापनों के संबंध में आवश्यक दिशानिर्देश जारी किए हैं कि इनमें महात्मा गांधी जैसे राष्ट्रीय नेताओं, राष्ट्रीपति, प्रधानमंत्री और देश के मुख्य न्यायाधीश के अलावा अन्य किसी के भी फोटो और नाम प्रकाशित नहीं किए जाएंगे। इस फेसले के पीछे न्यायालय की मंशा सरकारी विज्ञापनों से होने वाले आम जनता के धन के दुरुपय

… (11117 more words) …

Question number: 44

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

जहाँ सुमति वहाँ सम्पति नाना

Explanation

प्रस्तावना: - मानव अपनी वैचारिक एवं बौद्धिक शक्ति के कारण इस संसार के अन्य प्राणियों से श्रेष्ठ है। बौद्धिक कुशाग्रता के साथ-साथ यदि उसके विचारों में शुभता एवं मंगलकामना भी शामिल रहती है, तो वह ’देव’ की श्रेणी में शामिल हो जाता है। सद्बुद्धि सुक्त व्यक्ति को जीवन में सभी प्रकार की सफलताएँ प्राप्त होती हैं। इसलिए महाकवि तुलसीदास जी ने कहा है कि-

… (7369 more words) …

Question number: 45

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

आपातकाल

Explanation

प्रस्तावना: - आपातकाल की पीड़ा भोगने वाले वयोवृद्ध भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने भविष्य में फिर आपातकाल के आशंका से इनकार नहीं किया है। क्योंकि आज 25 जुन को आपातकाल के पूरे 40 वर्ष हो गए हैं। उन्हाेेने कहा, ’भविष्य में नागरिक स्वतंत्रता के निलंबन से इनकार नहीं किया जा सकता। जिस तरह जर्मनी ने हिटलर के शासन के बाद ऐसी परिस्थितियों से बचाव के संवैध

… (8291 more words) …

Question number: 46

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

आरक्षण

Explanation

प्रस्तावना: - आरक्षण, एक ऐसा मामला है। जिस पर सड़क से संसद तक जब भी बहस होती है तो माहौल गर्माते देर नहीं लगती है। ऊपर से राजनीतिक दल सामाजिक भावनाओं का दोहन कर इसे और संवदेनशील बना देते हैं। बहस तर्कसंगत और सकारात्मक होने की बजाय राजनीतिक नफे-नुकसान पर केंद्रित हो जाती है। वोट बैंक को ध्यान में रख आरक्षण की रेवड़ियां बंटना जारी रहता है। जिन समुद

… (10144 more words) …

Question number: 47

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

पर्यावरण

Explanation

प्रस्तावना: - आज 5 जून को हम पर्यावरण दिवस मनाने जा रहे हैं। यह हर साल मनाया जाता है। अनेक बार हमारे देश में ऋषियों ने पूर्व में पर्यावरण को इतना अधिक महत्व दिया कि वह हमारी जीवनशैली में समाहित हो गया था। चाहे पेड़ हो, पहाड़ हो, जल हो, पृथ्वी हो, वायु हो सभी को इस धर्म के बराबर का दर्जा दे दिया है। इसे पवित्र मानते हुए, हमारी पूजा, हमारे जीवन का

… (8252 more words) …

Question number: 48

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

नौकरशाही

Explanation

प्रस्तावना: - बहुत समय बाद देश में एक ऐसे प्रधानमंत्री सत्तासीन है जो नौकरशाहों से निरंतर मिलते हैं, उन्हें उत्साहित करते हैं, उनके अच्छे विचारों को मौका देते हैं। मोदी जी को पता है कि अफसरो की सही सोच ही विकास के रास्तों की रेखाएं खींच सकती है। इसलिए उनमें राष्ट्रवादी और उद्देश्यपूर्ण सोच बांटना जरूरी है। मोदी जी में गंभीरता और स्वीकार्यता के

… (9937 more words) …

Question number: 49

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

भूकंप

Explanation

प्रस्तावना: - वेसे तो हर साल पूरे विश्व में कोई न कोई त्रासदी होती रहती है और इस त्रासदी में भी नुकसान होता है। इस साल 2015 में अब तक सबसे दर्दनाक त्रासदी है नेपाल में भूकंप की जिसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। यह 81 साल का सबसे भयावह भूकंप है इसमें भारत के 19 राज्य कांपे हैं। नेपाल में 25.4. 2015 को आए भूकंप से भारी तबाई हुई है और इसे 1932

… (8511 more words) …

Question number: 50

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

परमाणु बटन

Explanation

प्रस्तावना: - आज दुनियाभर में इतने परमाणु हथियार हैं कि दुनिया एक नहीं कई बार तबाह हो सकती है। जिनमें उत्तर कोरिया के सनकी तानाशाह किम जोंग उन ने अमरीका से दो-दो हाथ करने की ताल ठोकी है। उत्तर कोरिया 9 अक्टुम्बर, 2006 को अपना पहला परमाणु परीक्षण कर अब तक जुटाए एटमी हथियारों के जखीरे के बूते ही अमरीका को आंखे दिखा रहा है। हाल में ब्रिटेन के प्रधा

… (10473 more words) …

Question number: 51

» Writing Essay

Essay Question▾

Describe in Detail

आध्यात्मिक विजय

Explanation

प्रस्तावना: - आज के जमाने में ऐसी आध्यात्मिक विजय होना आसान नहीं है। रावण परम शिव भक्त था, किन्तु एक समय ऐसा भी आया कि महादेव ने भी अपनी शरण में आए अपने भक्त पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि उस रावण का हारना तय हो गया था तब वह शिव से प्रार्थना करने लगा, सिर पर पड़ी विपदा से खुद को बचाने के लिए कई तरह से प्रार्थना करने लगा। उस समय रावण की स्थिति बहुत दय

… (8085 more words) …

f Page
Sign In