Reading Comprehension-Prose or Drama (CTET (Central Teacher Eligibility Test) Paper-II Hindi): Questions 16 - 23 of 413

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 827 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

Passage

जाकिर साहब से मिलने के लिए समय प्राप्त करने में देर नहीं लगती थी। एक बार मेरी एक सहेली ऑस्ट्रेलिया से भारत की यात्रा करने आई। अपने देश में वे भारतीयों की शिक्षा के लिए धन एकत्र किया करती थी। एक भारतीय को उन्होंने गोद भी ले लिया था। जाकिर साहब ने तुरन्त मिलने कासमय दिया और देर तक बैठ उनसे, उनके कार्य, उनकी यात्रा के बारे में सुनतक रहे। हिन्दी सीखने के बारे में एक बार जब उनसे प्रश्न किया गया तो उन्होंने कहा ‘मेरे परिवार में एक बच्चे ने जब गाँधीजी से आटोग्राफ माँगा तो उन्होंने अपने हस्ताक्षर उर्दू में किए उसी दिन से मैंने अपन मन में निश्चय कर लिया कि हिन्दी भाषियों को अपने हस्ताक्षर हिन्दी में ही दिया करूंगा।एक बार रामलीला में जनता ने उनसे रामचन्द्र जी का तिकल करने के लिए कहा। जाकिर साहब ने खुशी से तिलक कर दिया। कुछ उर्दू अखबारों ने एतराज किया। जाकिर साहब ने जवाब दिया ‘इन नादानों को मालूम नहीं है कि मैं भारत का राष्ट्रपति हूॅ, किसी खास धर्म का नहीं।’

Question number: 16 (4 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

रामलीला में रामचन्द्र का तिलक करना किस बात का प्रतीक है

Choices

Choice (4) Response

a.

सर्वधर्म समान न होना

b.

सभी धर्मों के प्रति उदार

c.

साम्प्रदायिक भावना

d.

धार्मिक भावना

Question number: 17 (5 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

‘खुशी जताना’ से आशय है

Choices

Choice (4) Response

a.

हर्षित

b.

सहमति

c.

आपत्ति

d.

Question does not provide sufficient data or is vague

Question number: 18 (6 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

निश्चय का सही सन्धि विच्छेद है

Choices

Choice (4) Response

a.

निश्: + चय

b.

नि: + श्चय

c.

नि: + चय

d.

Question does not provide sufficient data or is vague

Question number: 19 (7 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

उपरोक्त गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक हो सकता है

Choices

Choice (4) Response

a.

भाषा में एकता

b.

सर्वधर्म

c.

धर्म में अनेकता

d.

सर्वधर्म समान

Question number: 20 (8 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

सहेली ऑस्ट्रेलिया में क्या काम करती थी?

Choices

Choice (4) Response

a.

हिन्दी का प्रचार

b.

छात्रों को पढ़ाना

c.

भारतीयों की शिक्षा के लिए पैसे एकत्र करना

d.

ऑस्ट्रेलिया का दौरा करती थी

Question number: 21 (9 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

ऐतराज शब्द का शब्दार्थ है

Choices

Choice (4) Response

a.

विपत्ति

b.

सम्पत्ति

c.

आपत्ति

d.

समारोह

Passage

नारी की तत्कालीन दशा से प्रेमचन्द संतुष्ट नहीं थे। स्त्रियों को जिस दोहरे शोषण का शिकार होना पड़ा था, उससे प्रेमचन्द अनभिज्ञ नहीं थे। शतरचन्द्र की तरह प्रेमचन्द्र की सम्पूर्ण सहानुभूति स्त्रियों के साथ थी। शरत की तरह प्रेमचन्द मानते थे कि पतित कही जाने वाली स्त्रियों में भी मानवीय गरिमा काभाव होता है। आवश्यकता उसके प्रस्फुटन की है। लेकिन प्रेमचन्द का नारी संबंधी दृष्टिकोण ज्यादा वस्तुपरक था। उनकी सहानुभूति केवल भावना के स्तर पर नहीं थी। यही कारण है कि प्रेमचन्द के कथा साहित्य में नारी जीवन के जितने रूप मिलते है, उतने शरतचन्द्र के यहाँ नहीं हैं। केवल भावनात्मक सहानुभूति के कारण शरत की नायिकाएँ पथभ्रष्ट, पतित और समाज द्वारा परित्यक्त होने के बावजूद सि क्रयता और संघर्ष से वंचित है, अभिजात गरिमा से मण्डित रहती है और उपन्यासों में व्यक्त उनके चरित्र से उनकी चरित्रहीनता प्रकट नहीं होती। वे समाज की रूढ़ियों की शिकार हैं, लेकिन उनके प्रति विद्रोह नहीं करती, पुरूषों द्वारा किए जाने वाले हर अत्याचार को सहती है परन्तु उसका प्रतिकार नहीं करतीं। शरत की नायिकाएँ त्यागमयी, सहनशील, करूणामयी है लेकिन उनके सारे गुणों का सामाजिक धरातल लुप्त है। इसके विपरीत प्रेमचन्द की नारी पात्राएँ कहीं ज्यादा सक्रिय, संघर्षशील और सचेतन है इसलिए वे ज्यादा विश्वसनीय लगती हैं। उनके जीवन की समस्याएँ केवल उनकी नहीं है। वे तत्कालीन भारत की नारी जाति को समष्टिपरक समस्याएँ हैं जिनसे उस युग की नारी संघर्ष कर रही थी। प्रेमचन्द ने अपने साहित्य में इसी संघर्ष को अभिव्यक्ति प्रदान की है।

Question number: 22 (1 of 8 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

निम्नलिखित में से कौनसा कथन गलत है?

Choices

Choice (4) Response

a.

शरतचन्द्र और प्रेमचन्द की सहानुभूति स्त्रियों के साथ थी

b.

प्रेमचन्द स्त्रियों के दोहरे शोषण से परिचित नहीं थे

c.

शरत की नायिकाएँ अभिजात गरिमा से युक्त है

d.

प्रेमचन्द का नारी संबंधी दृष्टिकोण वस्तुपरक है

Question number: 23 (2 of 8 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

पथभ्रष्ट में प्रयुक्त समाज है

Choices

Choice (4) Response

a.

तत्पुरूष

b.

कर्मधारय

c.

दव्न्दव्

d.

दव्गु

f Page
Sign In