Reading Comprehension-Prose or Drama (CTET Paper-II Hindi): Questions 87 - 96 of 413

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 827 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

Passage

यान्त्रिक गति से जाते और लौटते पण्डित जी आज सुबह अचानक उस मैदान की ओर बढ़ चले, जहाँ कक्षा भवनों से कलकल ध्वनि के साथ बालकों की धारा निकलकर बर रही थी। उन्हें समझने में देर नहीं लगी कि स्कूली बच्चों की प्रार्थना का समय है। बालक अब पंक्तिबद्ध खड़े हो गए हैं। कलकल ध्वनि शान्त हो गई। किसी आन्तरिक अनुशासन से सबके मुँह पर शान्ति और नम्रता की सात्विक आर्द्रता छा गई। सिर किंचित आगे झुग गए। आँखूं मुँदी अथवा अधमुँदी स्थितियों में हो गई।

पण्डित जी ने सोचा, कौन कहता है कि आज का छात्र-वर्ग-विद्या-बुद्धि के साथ अनुशासन की दिशा में एकदम खोखला हो गया है? ऐसा सोचने वाले एक बार आकर उन्हें इस रूप में देखें। उच्च दर्जें के छात्र भी छोटे बालकों के साथ शान्त और संयमित है। क्या कभी मार-पीटकर छात्राेें को इतना शान्त बनाया जा सकता है? नहीं, यह प्रार्थना और ईश्वर की महिमा का प्रभाव है। भारतवर्ष में शिक्षा को भगवान और उसकी प्रार्थना से काट दिया जाएगा तो वह खोखली हो जाएगी। प्रार्थना सभा की यह भाव-मग्नता यदि कक्षा भवन में नहीं रह सकती तो शिक्षा की सफलता संदिग्ध रहेगी।

Question number: 87 (1 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

वर्तमान में छात्र वर्ग …………. की दिशा में एक दम खोखला हो गया है।

Choices

Choice (4) Response
a.

सफलता

b.

अनुशासन

c.

संयम

d.

खेलकूद

Question number: 88 (2 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

उपरोक्त गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक लिखिए

Choices

Choice (4) Response
a.

विद्यालय में खेलकूद

b.

शान्त और संयमित

c.

विद्यालय में सांस्कृतिक कार्यक्रम

d.

विद्यालय में अनुशासन और दण्ड

Question number: 89 (3 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

‘भाव मग्नता’ से आशय है

Choices

Choice (4) Response
a.

ध्यानपूर्वक

b.

संगीत में मग्न

c.

प्राथ्रना में मग्न

d. All of the above

Question number: 90 (4 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

निमन में से कौनसा ईश्वर का पर्यायवाची शब्द नहीं है?

Choices

Choice (4) Response
a.

भगवान

b.

ईश

c.

गोविन्द

d.

रत्नाकर

Question number: 91 (5 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

यान्त्रिक गति से कौन जा रहा था?

Choices

Choice (4) Response
a.

छात्र

b.

शिक्षक

c.

पण्डित

d.

विद्यार्थी

Question number: 92 (6 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

अगर प्रार्थना न हो तो शिक्षा की सफलता कैसी रहेगी।

Choices

Choice (4) Response
a.

सराहनीय

b.

विरूपित

c.

संदिग्ध

d.

बेमानी

Question number: 93 (7 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

आर्द्र शब्द का विलोम है

Choices

Choice (4) Response
a.

आर्द्रता

b.

शुष्क

c.

सूखा

d.

शीतल

Question number: 94 (8 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

समय का अनेकार्थी है

Choices

Choice (4) Response
a.

कल

b.

मृत्यु

c.

मरण

d.

काल

Question number: 95 (9 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

‘कक्षा भवन’ शब्द में कौनसा समास है?

Choices

Choice (4) Response
a.

अव्ययीभाव

b.

तत्पुरूष

c.

बहुब्रीहि

d.

दव्न्दव्

Passage

स्थूल एवं बाह्य पदार्थ सूक्ष्म एवं मानसिक पदार्थों एवं भावों की अपेक्षा अधिक आधिपत्य का विषय है, जो मनुष्य भोजन का एक और खाता है, वह दूसरे को वह ग्रास खाने से रोकता है, उससे कौर छीन्ने के लिए भी तैयार हो जाता है, किन्तु जो मनुष्य कविता पाठ का आनन्द लेता है अथवा कविता लिखता है, वह किसी दूसरे को कविता के आनन्द लेने या कविता लिखने में बाधा नहीं डालता। यही कारण है कि स्थूल वस्तुओं के विषय में ऐसे अवसर अथवा परिवेश की आवश्यकता है जो कि उनकी प्राप्त्याशा को युक्तिसंगत बनाता है। जो व्यक्ति सिसृक्षा से आकुल है, रचनात्मक कार्य करने में समर्थ है, उसे भौतिक स्थूल लाभ अथवा प्रलोभन न तो लुब्ध करते हैं और न ही प्रोत्साहित। विश्व में विचारक, दार्शनिक दसमें से ही होते हैं उनमें भौतिक महत्वाकांक्षा अत्यल्प होती है। ‘पूँजी’ का रचयिता कार्ल मार्क्स जीवन भर निर्धनता से जूझता रहा। राज्याधिकारी ने सुकरात को मरवा डाला, पर वह जीवन के अन्तिम क्षणों में भी शान्त रहा, क्योंकि वह अपने जीवन के लक्ष्य का भलीभाँति निर्वाह कर चुका था, अपने जीवन का कार्य समाप्त कर चुका था, किन्तु यदि उसे पुरस्कृत किया जाता, प्रतिष्ठा के अम्बारों से लाद दिया जाता, परन्तु उसे अपना काम न करने दिया जाता तो वह अनुभव करता कि उसे कठोर रूप से दण्डित किया गया है।

Question number: 96 (1 of 9 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

मानसिक पोषण हेतु वस्तुओं की उपलब्धि के लिए आवश्यकता है

Choices

Choice (4) Response
a.

उपयुक्त न्याय की

b.

उपयुक्त परिस्थितियों की

c.

युक्तिसंगत पर्यावरण की

d.

युक्तिसंगत अवधारणाओं की

Sign In