Reading Comprehension-Poetry (CTET Paper-II Hindi): Questions 1 - 8 of 179

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 827 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

Passage

हैं जन्म लेते जगह में एक ही,

एक ही पोधा उन्हें है पालता!

रात में उन पर चमकता चाँद भी,

एक ही-सी चाँदनी है डालता।

छेद कर काँटा किसी की उँगलियाँ,

फाड़ देता है किसी का वर वसन।

प्यार में डूबी तितलियों के पर कतर,

भौंर का है बेध देता श्याम तन।

फूल लेकर तितलियों की गोद में,

भौंर को अपना अनूठा रस मिला।

निज सुगन्धों का निराले ढंग से,

है सदा देता कली जी की खिला।

है खटकता एक सबकी आँख में

दूसरा है सोहता सुर-सीम पर।

किस तरह कुल की बड़ाई काम दे,

जो किसी में हो बड़प्पन की कसर।

Question number: 1 (1 of 4 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘बड़प्पन’ शब्द का अर्थ है

Choices

Choice (4) Response
a.

स्वभाव

b.

स्वचरित्र

c.

बारिश

d.

महानता

Question number: 2 (2 of 4 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

कवि ने पद्यांश में किसके स्वभाव को ज्यादा महत्व दिया है?

Choices

Choice (4) Response
a.

स्वचरित्र और अपने स्वभाव को

b.

कुल गोत्र को

c.

दुर्जनता को

d.

भौंरों के स्वभाव को

Question number: 3 (3 of 4 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘काँटों’ के माध्यम से किसके स्वभाव के बारे में कहा गया है?

Choices

Choice (4) Response
a.

सज्जनों के

b.

दुर्जनों के

c.

कायरों के

d.

वीरों के

Question number: 4 (4 of 4 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

प्रस्तुत पद्यांश का उचित शीर्ष है

Choices

Choice (4) Response
a.

फूल और काँटे

b.

बड़प्पन की कसर

c.

जन्म

d.

चाँदनी

Passage

हमारी आन का झण्डा, भरा अभिमान हैं इसमें

हमारे प्राण का झण्डा, भरा बलिदान हैं इसमें।

हमारी प्रेरणा का बल, सबल यह राष्ट्र का गौरव!

इसी हित शंखा फूँका था, हिमालय श्रृंग से भैरव!

हरा है देश का अंचल, भरा है धवल गंगा जल।

राष्ट्र के केशरी हैं हम अशोक चक्र है सम्बल।

अहिंसा, सत्य, निष्ठा का तिरंगा मम्र बतलाता

उचित है देश-सेवा और समन्वय कर्म, समझाता।

कभी दुनिया में औंरों का नहीं हम छीन कर खाएँ

हमारे देश का झण्डा कभी झुक न ही पाए।

Question number: 5 (1 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

झण्डे को प्रेरणा का बल किसलिए कहा गया है

Choices

Choice (4) Response
a.

देशवासियों में प्रेमभाव जगाने के कारण

b.

उन्हें सत्कार्यों की प्रेरणा देने के कारण

c.

राष्ट्रहित के भाव जगाने के कारण

d.

से प्रेरणा के वचन कहने के कारण

Question number: 6 (2 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘कभी दुनिया में औरों का नहीं हम छीन कर खाएँ’ पंक्ति का आशय है

Choices

Choice (4) Response
a.

हम ईमानदारी से जीवन बिताएँ

b.

हम अपने कमाए धन पर सन्तोष करें

c.

किसी पर अन्याय न करें

d.

दूसरे के धन पर लालची दृष्टि न रखें

Question number: 7 (3 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

शब्द श्रृंगा का समानार्थी शब्द है

Choices

Choice (4) Response
a.

सागर

b.

हिम

c.

पर्वत

d.

देश

Question number: 8 (4 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘हरा है देश का अंचल’ पंक्ति में ‘हरा’ शब्द वाचक है

Choices

Choice (4) Response
a.

देश की समृद्धि का

b.

देश के प्राकृतिक सौन्दर्य का

c.

खेतों की हरियाली का

d.

राष्ट्रीय गौरव का

Sign In