Reading Comprehension (CTET Paper-II Hindi): Questions 152 - 160 of 592

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 827 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

Passage

कुछ भी बन बस कायर मत बन!

ठोकर मारकर पटक मत पाथा।

तेरी राह रोकते पाहन!

कुछ भी बन बस कायर मत बन!

ले-देकर जीना, क्या जीना?

कब तक गम के आँस पीना?

मानवता से सींचा तुझको!

बहा युगों तक खून-पसीना!

कुछ भी बन बस कायर मत बन!

Question number: 152 (1 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘कायर’ से तात्पर्य है

Choices

Choice (4) Response

a.

डरपोक

b.

समझौतावादी

c.

वीर

d.

दुष्ट

Question number: 153 (2 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

निम्न ‘राह’ शब्द में कौनसा रस है?

Choices

Choice (4) Response

a.

श्रृंगार रस

b.

वात्सल्य रस

c.

वीर रस

d.

All of the above

Question number: 154 (3 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

पाहन का पर्यायवाची है

Choices

Choice (4) Response

a.

मेहमान

b.

पैर

c.

पत्थर

d.

पर्वत

Question number: 155 (4 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

कवि के अनुसार किस प्रकार का जीवन व्यर्थ है

Choices

Choice (4) Response

a.

कुछ भी बनकर जीना

b.

समझौतावादी

c.

खून पसीना बहाकर

d.

मनुष्य को सर्वस्व अर्पित करके

Question number: 156 (5 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

कवि व्यक्ति को क्या न बनने की सलाद दे रहा है

Choices

Choice (4) Response

a.

कायर

b.

लालची

c.

डरपोक

d.

दुराचारी

Question number: 157 (6 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

कवि क्या बनने की प्रेरणा दे रहा है

Choices

Choice (4) Response

a.

गम में आँसू पीने की

b.

आत्म समर्पण की

c.

रूकावटों को ठोकर मारने की

d.

कायर न बनने की

Passage

संकटों से वीर घबराते नहीं

आपदाएँ देख छिप जाते नहीं।

लग गए जिस काम में पूरा किया,

काम करके व्यर्थ पछताते नहीं।

हो सरल अथवा कठिन हो रास्ता

कर्मवीरों को न इससे वास्ता।

बढ़ चले तो अन्त तक ही बढ़ चले

कठिनतर गिरिश्रृंग ऊपर चढ़ गये।

कठिन पन्थ को देखकर मुस्काते सदा

संकटकों के बीच वे गाते सदा।

है असम्भव कुछ नहीं उनके लिए

सरल सम्भव कर दिखाते वे सदा।

यह असम्भव कायरों का शब्द है

कहा था नेपोलियन ने एक दिन

सच बताऊँ जिन्दगी ही व्यर्थ है

दर्प बिन, उत्साह बिन और शक्ति बिन।

Question number: 158 (1 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

पद्यांश में कौनसे ‘रस’ का प्रयोग हुआ है

Choices

Choice (4) Response

a.

श्रृंगार रस

b.

वीर रस

c.

वात्सल्य रस

d.

None of the above

Question number: 159 (2 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

वीरों की एक विशेषता है

Choices

Choice (4) Response

a.

हर कार्य को असम्भव समझते है

b.

उनमें स्वाभिमान की कमी होती है

c.

वे संकटों से वीरतापूर्वक मुकाबला करते है

d.

उनमें उत्साह की कमी होती है

Question number: 160 (3 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

कवि के अनुसार किस विशेषता की कमी होने पर जीवन व्यर्थ है

Choices

Choice (4) Response

a.

उत्साह और शक्ति की

b.

कायरता की

c.

चापलूसी की

d.

Question does not provide sufficient data or is vague

Sign In