Pedagogy of Language Development-Language Skills (CTET Paper-II Hindi): Questions 23 - 27 of 46

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 827 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

Question number: 23

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

Appeared in Year: 2012

MCQ▾

Question

भाषा तब सबसे सहज और प्रभावी रूप से सीखी जाती है जब

Choices

Choice (4) Response

a.

भाषा प्रयोग की दक्षता प्रमुख उद्देश्य हो

b.

भाषा की पाठ्य पुस्तक में अधिक से अधिक पाठों का समावेश हो

c.

भाषा के नियम कण्ठस्थ कराए जाएँ

d.

भाषा शिक्षक कठोर रवैया अपनाते हैं

Question number: 24

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

Appeared in Year: 2012

MCQ▾

Question

निम्नलिखित में से कौनसी विधा का अनिवार्यत: सस्वर पठन किया जाना अपेक्षित है?

Choices

Choice (4) Response

a.

निबन्ध

b.

एकांकी

c.

जीवनी

d.

आत्मकथा

Question number: 25

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

Appeared in Year: 2012

MCQ▾

Question

भाषा की पाठ्य पुस्तक में लोकगीतों को स्थान देना

Choices

Choice (4) Response

a.

भारत की सांस्कृतिक विशेषताओं से परिचित होने में मदद करता है

b.

बच्चों को ‘संगीत’ सिखाने से जुड़ा है

c.

गायन को महत्व देना है

d.

परम्परा का निर्वाह करना है

Question number: 26

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

Appeared in Year: 2012

MCQ▾

Question

भाषा प्रयोग की कुशलता सम्भव है

Choices

Choice (4) Response

a.

केवल भाषा सुनने से

b.

केवल साहित्य पढ़ने से

c.

भाषा की पाठ्य पुस्तक पढ़ने से

d.

अधिक से अधिक भाषा प्रयोग से

Question number: 27

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

Appeared in Year: 2012

MCQ▾

Question

भाषा शिक्षण के सन्दर्भ में कौनसा कथन सही नहीं है?

Choices

Choice (4) Response

a.

भाषागत शुद्धता के प्रति अत्यधिक कठोर रवैया नहीं अपनाना चाहिए

b.

समृद्ध भाषिक परिवेश में बच्चे स्वयं नियमों का निर्माण करते है

c.

भाषा शिक्षण में समृद्ध भाषिक परिवेश उपलब्ध कराना जरूरी है

d.

भाषा की नियमबद्ध व्यवस्था को केवल व्याकरण के माध्यम से ही जाना जा सकता है

Sign In