CTET (Central Teacher Eligibility Test) Paper-II Hindi: Questions 663 - 667 of 835

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 835 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 400.00 or

How to register?

Question number: 663

» Pedagogy of Language Development » Teaching in Classroom

Appeared in Year: 2012

MCQ▾

Question

बच्चों में भाषा सीखने की क्षमता जन्मजात होती है। अत:

Choices

Choice (4) Response

a.

भाषा शिक्षण का कार्य घर पर ही किया जाना चाहिए

b.

बच्चों को समृद्ध भाषिक परिवेश उपलब्ध कराया जाना चाहिए

c.

उनकी इस क्षमता का भरपूर प्रयोग करते हुए भाषायी नियम सिखाए जाने चाहिए

d.

भाषा शिक्षण का कार्य नहीं किया जाना चाहिए

Question number: 664

» Pedagogy of Language Development » Evaluating Language Comprehension & Proficiency

MCQ▾

Question

किसके अनुसार मूल्यांकन वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा अध्यापक व छात्र इस बात का निर्णय करते हैं कि शिक्षण के लक्ष्यों को प्रापत किया जा रहा है या नहीं।’

Choices

Choice (4) Response

a.

एडम्स के

b.

कानबेक के

c.

ब्लूम के

d.

None of the above

Question number: 665

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

MCQ▾

Question

हिन्दी भाषा शिक्षण में पढ़ने तथा लिखने के कौशल में विकास करने हेतु शिक्षण शुरू होना चाहिए

Choices

Choice (4) Response

a.

वाक्यों से

b.

अक्षरों से

c.

शब्दों से

d.

All a. , b. and c. are correct

Question number: 666

» Pedagogy of Language Development » Remedial Teaching

MCQ▾

Question

निम्न में से क्या उपचारात्मक भाषा शिक्षण हेतु एक समस्या नहीं है?

Choices

Choice (4) Response

a.

नीलम का पढ़ते समय वर्तनी संबंधी अशुद्धियों का प्रयोग करना

b.

संजय का पाठ्य पुस्तक को प्रवाहपूर्ण तरीके से पढ़ना

c.

सीमा का कक्षा में शिक्षण कार्य के दौरान ध्यानपूर्वक ना सुनना

d.

All of the above

Question number: 667

» Pedagogy of Language Development » Remedial Teaching

MCQ▾

Question

निम्न में से क्या उपचारात्मक शिक्षण का सिद्धान्त नहीं है?

Choices

Choice (4) Response

a.

शिक्षण के दौरान बच्चों को सक्रिय रखा जाए

b.

बच्चों एवं शिक्षक के मध्य संबंध स्थापित किया जाए

c.

अध्यापक अपने दृष्टिकोण को अनुभवों के आधार पर ना अपनाये

d.

शिक्षक निदानात्मक परीक्षणों में दक्ष हो

f Page