Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 133 key topics of CTET Paper-I Hindi covering entire 2017 syllabus. All the updates for one year are also included. View Features or .

Rs. 200.00 or

श्रवण कौशल का अर्थ (Meaning of Listening Skill)

  • भाषा श्रवण का संबंध ‘कर्ण’ से है। शब्द का अर्थ सामाजिक प्रसंग में सुनने से ग्रहण किया जाता है। छात्र कविता, कहानी, भाषण वाद-विवाद, वार्तालाप आदि का ज्ञान सुनकर ही प्राप्त करता है और उसका अर्थ भी ग्रहण करता है।
  • यदि छात्र की श्रवण इन्द्रियों में दोष है, तो वह न भाषा सीख सकता है और न अपने मनोभावों को अभिव्यक्त कर सकता है। अत: उसका भाषा ज्ञान शून्य के बराबर ही रहेगा। बालक सुनकर ही अनुकरण द्वारा भाषा ज्ञान अर्जित करता है।

अनुकूरण वाचन (Imitation Reading) - वाचन के प्रकार (Types of Reading)

आदर्श वाचन के पश्चात् छात्रों द्वारा कक्षा में अनुकरण वाचन किया जाता है।

अनुकरण वाचन के निम्न उद्देश्य हैं

  • शिक्षक द्वारा किए गए आदर्श वाचन का अनुकरण करना।
  • उच्चारण को शुद्ध बनाना।
  • वाचन में गति एवं प्रवाह का ध्यान रखना।
  • वाचन करते समय अर्थ ग्रहण की योग्यता का विकास करना।
  • पाठ के भावानुसार वाचन पेदा करने की क्षमता विकसित करना तथा वीर-रस की शिक्षण सामग्री का वाचन, ओजपूर्ण एवं उच्च स्तर से, श्र्ाृंगार रस शिक्षण का वाचन, स्नेहयुक्त एवं मधुर स्वर से, करूण रस से द्रयार्द स्वर से, भक्ति रस का शान्त एवं गम्भीर स्वर से वचान करना।
Sign In