Subscribe now to access pointwise, categorized & easy to understand notes on 133 key topics of CTET Paper-I Hindi covering entire 2016 syllabus. All the updates for one year are also included. View Features or .

Rs. 200.00 or

मौखिक भाव प्रकाशन से संबंधित शिक्षक की सावधानियाँ (Cautions of Teacher Related to Oral Expression)

  • बच्चों की त्रुटियों को ठीक कराने के लिए स्वर यंत्रों को साधा जाए।
  • यदि प्राकृतिक कारणों से बालक शुद्ध उच्चारण नहीं कर पाता है, तो उसके माता-पिता को सूचित करना चाहिए एवं डॉक्टरों से उचित चिकित्सा करवानी चाहिए।
  • शिक्षक स्वयं बोलने का दृष्टान्त पेश करें, जिसमें तेजी, शीघ्रता व क्रोध न हो।
  • बालकों में किसी प्रकार का संकोच न आने पाए।
  • बोलने में कठिनाई अनुभव करने वाले छात्रों को अधिक से अधिक बोलने व पढ़ने का अवसर मिलना चाहिए। जिसमें उनमें धीरे-धीरे साहस व स्वावलम्बन का विकास हो। कई बार बच्चा मनोवैज्ञानिक कारणों से भी हकलाने लगता है और अशुद्ध… (48 more words) …

Subscribe & login to view complete study material.

लेखन कौशल के गुण (Merits of Writing Skill)

  • लेखन, सुन्दर, स्पष्ट एवं सुडौल हो।
  • उसमें प्रवाहशीलता एवं क्रमबद्धता हो।
  • विषय (शिक्षण) सामग्री उपयुक्त अनुच्छेदों में विभाजित हो।
  • भाषा एवं शैली में प्रभावोत्पादकता हो।
  • भाषा व्याकरण सम्मत हो।
  • अभिव्यक्ति संक्षिप्त, स्पष्ट तथा प्रभावोत्पादक हो।

भाषा कौशल के प्रकार (Types of Language Skills)

1. श्रवण कौशल (सुनकर अर्थ ग्रहण करने का कौशल)

2. पठन/वाचन कौशल (पढ़कर अर्थ ग्रहण करने का कौशल)

3. मौखिक अभिव्यक्ति कौशल (विचारों को बोलकर व्यक्त करने का कौशल)

4. लेखन कौशल (विचारों को लिखकर व्यक्त करने का कौशल)

  • भाषा शिक्षण का संबंध केवल ज्ञान प्रदान करना या सूचनाएँ प्रदान करना मात्र नहीं बल्कि भाषा सीखने वालों को उपरोक्त चारों कौशलों में दक्ष बनाना है।
  • प्रथम दो कौशल ग्राह्यात्मक कौशल तथा अगले दो कौशल अभिव्यंजनात्मक कौशल कहे जाते हैं।
Sign In