Pedagogy of Language Development (CTET (Central Teacher Eligibility Test) Paper-I Hindi): Questions 125 - 129 of 247

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 497 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 300.00 or

Question number: 125

» Pedagogy of Language Development » Role of Listening and Speaking

MCQ▾

Question

भाषा

Choices

Choice (4) Response

a.

सीखने-सिखाने में पाठ्य पुस्तकों का विशेष महत्व होता है

b.

जीवन की विभिन्न स्थितियों को साधती है

c.

व्याकरण पर ही आधारित होती है

d.

जानने का अर्थ उसका व्याकरण जानना है

Question number: 126

» Pedagogy of Language Development » Learning and Acquisition

MCQ▾

Question

कविता शिक्षण में गीत प्रणाली का प्रयोग किस स्तर पर करना सर्वाधिक उपयोगी होता है?

Choices

Choice (4) Response

a.

प्राथमिक कक्षा स्तर

b.

माध्यमिक कक्षा स्तर

c.

उच्च कक्षा स्तर

d.

उच्चतर माध्यमिक कक्षा स्तर

Question number: 127

» Pedagogy of Language Development » Evaluating Language Comprehension & Proficiency

MCQ▾

Question

हिन्दी भाषा में मूल्यांकन के संचित अभिलेखों में होना चाहिए

Choices

Choice (4) Response

a.

विद्यार्थियों की उपस्थिति और चिकित्सा रिकॉर्ड

b.

विद्यार्थियों द्वारा प्रदर्शित अनुशासनहीनता की घटनाओं का रिकॉर्ड

c.

विद्यार्थियों की रूचियों, अभिक्षमता और सामाजिक समायोजनों के प्रगतिशील विकास का रिकॉर्ड

d.

किसी भी विशिष्ट दिन विद्यार्थियों के व्यवहार का रिकॉर्ड

Question number: 128

» Pedagogy of Language Development » Evaluating Language Comprehension & Proficiency

MCQ▾

Question

भाषा में सतत् और व्यापक मूल्यांकन का उद्देश्य है

Choices

Choice (4) Response

a.

केवल यह जानना कि बच्चों ने कितना सीखा

b.

बच्चों को उत्तीर्ण श्रेणी में रखना

c.

बच्चों द्वारा भाषा सीखने की प्रक्रिया को जानना, समझना

d.

केवल बच्चों की कमियाँ जानना

Question number: 129

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

MCQ▾

Question

निम्नलिखित में से कौनसा श्रवण कौशल शिक्षण का उद्देश्य नहीं है?

Choices

Choice (4) Response

a.

सुनकर अर्थ ग्रहण करने की योग्यता का विकास करना

b.

पूरी बात को सुनना न कि वक्ता के कथन के सारांश को समझना

c.

श्रुत सामग्री के विषय को भलीभांति समझने की योग्यता उत्पन्न करना

d.

किसी भी श्रुत सामग्री को मनोयोग पूर्वक सुनने की प्रेरणा प्रदान करना

f Page
Sign In