CTET (Central Teacher Eligibility Test) Paper-I Hindi: Questions 294 - 299 of 497

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 497 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 300.00 or

Question number: 294

» Pedagogy of Language Development » Remedial Teaching

MCQ▾

Question

रागिनी हमेशा ‘हैण्डपम्प’ को चापाकल बोलती है। एक शिक्षिका के रूप में आप क्या करेंगी?

Choices

Choice (4) Response

a.

रागिनी को समझाएँगे कि यह चापाकल नहीं, हैण्डपम्प है

b.

सम्पूर्ण कक्षा को बताएँगे कि हैण्डपम्प को चापाकल भी कहा जाता है

c.

उसे डाटेंगे कि उनसे लगत शब्द का प्रयोग किया है

d.

उसकी तरफ कोई ध्यान नहीं देंगे

Question number: 295

» Pedagogy of Language Development » Learning and Acquisition

MCQ▾

Question

बच्चें भाषा सीखने की क्षमता के साथ पैदा होते हैं। मुख्यत: यह किसका विचार है?

Choices

Choice (4) Response

a.

एल. एस. वाइगोत्स्की

b.

ईवाम पावलॉव

c.

नॉओम चॉम्स्की

d.

जीन पियाजे

Question number: 296

» Pedagogy of Language Development » Language Skills

MCQ▾

Question

निम्नलिखित में से कौनसी शिक्षण विधि श्रवण कौशल के शिक्षण को सर्वाधिक उपयोगी है?

Choices

Choice (4) Response

a.

प्रश्नोत्तर

b.

सस्वरवाचन

c.

भाषण

d.

All a. , b. and c. are correct

Question number: 297

» Pedagogy of Language Development » Role of Listening and Speaking

MCQ▾

Question

भाषा

Choices

Choice (4) Response

a.

नियमों की जानकारी से ही निखरती है

b.

विद्यालय में ही सीखी जाती है

c.

एक नियमबद्ध व्यवस्था है

d.

सदैव व्याकरण के नियमों का ही अनुगमन करती है

Question number: 298

» Pedagogy of Language Development » Grammar

MCQ▾

Question

‘भाषा शिक्षण’ में शब्दार्थ पर अधिक बल नहीं देना चाहिए, क्योंकि

Choices

Choice (4) Response

a.

शब्दों के अर्थ शब्दकोष से देखे जा सकते हैं

b.

इसमें समय व्यर्थ होता है

c.

बच्चे सारे शब्दों के अर्थ जानते हैं

d.

बच्चे संदर्भ के अनुसार अनुमान लगाते हुए अर्थ ग्रहण कर लेते है

Passage

वह आता

दो टूक कलेजे के करता पछताता

पथ पर आता।

पेट पीट दोनों मिलकर हैं एक

चल रहा लकुटिया टेक

मुट्ठी भर दाने को भूख मिटाने को

मुँह फटी पुरानी झोली का फैलाता

दो टूक कलेजे के करता पछताता पथ पर आता।

साथ दो बच्चे भी हैं सदा हाथ फैलाए

बाएँ से वे मलते हुए पेट को चलते

और दाहिना दया-दृष्टि पाने की ओर बढ़ाए।

भूख से सूख ओंठ जब जाते

दाता-भाग्य विधाता से क्या पाते?

घूँट आँसुओं के पीकर रह जाते?

चाट रहे जूठी पत्तल वे सभी सड़क पर खड़े हुए

और झपट लेने को उनके कुत्ते भी अड़े हुए

Question number: 299 (1 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

भिखारी की इच्छा है

Choices

Choice (4) Response

a.

सोना पाने की

b.

पैसा पाने की

c.

अनाज पाने की

d.

कपड़ा पाने की

f Page
Sign In