CTET Paper-I Hindi: Questions 127 - 131 of 497

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 497 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 300.00 or

Question number: 127

» Pedagogy of Language Development » Grammar

MCQ▾

Question

निम्नलिखित में से कौनसा स्वरागम उच्चारण दोष का उदाहरण है?

Choices

Choice (4) Response

a.

‘अमृत’ को ‘अम्रित’ कहना

b.

‘क्षत्रिय’ को ‘छत्री’ कहना

c.

‘बृजेन्द्र’ को बढ़ाकर ‘बरजेन्दर’ कहना

d.

‘स्नान’ को ‘अस्नान्’ कहना

Question number: 128

» Pedagogy of Language Development » Remedial Teaching

MCQ▾

Question

भाषा सीखने में जो त्रुटियाँ होती हैं

Choices

Choice (4) Response

a.

उन्हें कठोरता से लेना चाहिए

b.

उन्हें जल्दी से दूर किया जाना चाहिए

c.

वे बच्चों की त्रुटियों की ओर संकेत करती हैं

d.

वे सीखने की प्रक्रिया का स्वाभाविक हिस्सा होती हैं जो समय के साथ दूर होने लगती हैं

Question number: 129

» Pedagogy of Language Development » Teaching in Classroom

MCQ▾

Question

पहली कक्षा में पढ़ने वाली अंकिता अक्सर ‘ड़’ वाले शब्दों को गलत तरीके से बोलती है। आप क्या करेंगे?

Choices

Choice (4) Response

a.

उसे ड़ वाले शब्दों की सी. डी. सुनने के लिए देंगे

b.

अंकिता को ड़ वाले शब्दों की सूची देंगे

c.

अंकिता को ड़ वाले शब्दों को अपने पीछे-प्छीे दोहराने के लिए कहेंगे

d.

स्वयं ड़ वाले शब्दों को सहज भाव से उसके समक्ष प्रस्तुत कर उससे धैयपूर्वक बोलने का अभ्यास करायेंगे

Question number: 130

» Pedagogy of Language Development » Evaluating Language Comprehension & Proficiency

MCQ▾

Question

जब मूल्यांकन का प्रयोजन किसी विशिष्ट अधिगम प्रक्रिया में संकल्पनाओं को स्पष्ट करना होता है, तो ऐसा मूल्यांकन ………. मूल्यांकन कहलाता है।

Choices

Choice (4) Response

a.

निरन्तर

b.

निर्माणात्मक

c.

संज्ञानात्मक

d.

विसंज्ञानात्मक

Question number: 131

» Pedagogy of Language Development » Principles of Language Teaching

MCQ▾

Question

भाषा शिक्षण का निर्माणकारी उपागम इस बात पर बल देता है कि

Choices

Choice (4) Response

a.

बच्चों को भाषायी नियम कण्ठस्थ करवाए जाएँ

b.

बच्चों की भाषागत शुद्धता पर विशेष बल देना चाहिए

c.

व्याकरण के नियम जानना ही शुद्ध भाषा प्रयोग का एकमात्र आधार है

d.

समाज में व्याप्त भाषायी व्यवहार का अवलोकन करते हुए बच्चे स्वयं ही नियम बना लेते हैं

Sign In