CTET Paper-I Hindi: Questions 7 - 13 of 497

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 497 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 300.00 or

Passage

तुम भारत, हम भारतीय हैं, तुम माता, हम बेठे

किसकी हिम्मत है कि तुम्हें दृष्टता-दृष्टि से देखे?

ओ माता, तुम एक अरब से अधिक भुजाओं वाली

सबकी रक्षा में तुम सक्षम, हो अदम्य बलशाली।।

भाषा, वेश, प्रदेश भिन्न हैं, फिर भी भाई-भाई

भारत का साझी संस्कृति में पलते भारतवासी।

सुदिनों में हम एकसाथ हँसते, गाते, सोते है

दुर्दिन में भी साथ-साथ जगते पौरूष ढोते है।

तुम हो शस्यश्यामला, खेतों में तुम लहराती हो

प्रकृति प्राणमयि, सामगानमयि, तुम न किसे भाती हो।

तुम न अगर होती तो धरती वसुधा क्यों कहलाती?

गंगा कहाँ बहा करती, गीता क्यों गाई जाती?

Question number: 7 (3 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘अदम्य’ का तात्पर्य है

Choices

Choice (4) Response

a.

दब्बू

b.

अत्यधिक

c.

जिसे दबाया न जा सके

d.

जिसे रोका न जा सके

Question number: 8 (4 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

भारत माँ की एक अरब से अधिक भुजाएँ क्यों बनाई गई हैं?

Choices

Choice (4) Response

a.

अत्यधिक जनसंख्या बताने हेतु

b.

एक अरब से अधिक नर बताने हेतु

c.

भारत के सपूतों की जनसंख्या बताने हेतु

d.

एक अरब से अधिक सैनिक बताने हेतु

Question number: 9 (5 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

‘सक्षम’ का पर्यायवाची छाँटिए

Choices

Choice (4) Response

a.

अक्षम

b.

समर्थ

c.

योग्य

d.

असमर्थ

Question number: 10 (6 of 6 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Poetry

MCQ▾

Question

इस कविता में किसे माता कहा गया है?

Choices

Choice (4) Response

a.

अपनी माँ को

b.

भारत को

c.

गऊ माता को

d.

धरती को

Question number: 11

» Pedagogy of Language Development » Evaluating Language Comprehension & Proficiency

MCQ▾

Question

भाषा में आंकलन करते समय आप किसे सबसे कम महत्व देंगे?

Choices

Choice (4) Response

a.

प्रश्नों का निर्माण करना

b.

परिचर्चा

c.

सृजनात्मक लेखन

d.

प्रश्नों के उत्तर लिखना

Question number: 12

» Pedagogy of Language Development » Evaluating Language Comprehension & Proficiency

MCQ▾

Question

हिन्दी की शिक्षिका अक्सर वस्तुनिष्ठ प्रकार वाला रूपात्मक आंकलन करती है लेकिन उसे उसके द्वारा विकसित परीक्षण की विश्वसनीयता पर शंका है। इस प्रकार के आंकलन की विश्वसनीयता को बढ़ाने के लिए क्या करना चाहिए?

Choices

Choice (4) Response

a.

मानकीकृत परीक्षण का प्रयोग

b.

एनसीईआरटी द्वारा प्रकाशित उदाहरण रूपी पुस्तिकाओं में दिए गए प्रश्नों का प्रयोग करना

c.

यह पता लगाना कि अन्य शिक्षक क्या करते हैं

d.

प्रश्नों की संख्या बढ़ाना

Passage

‘गोदान’ प्रेमचन्द जी की उन अमर कृतियों में से एक है, जिसमें ग्रामीण भारत की आत्मा का करूण चित्र साकार हो उठा है। इसी कारण कई मनीषी आलोचक इसे ग्रामीण भारतीय परिवेशगत समस्याओं का महाकाव्य मानते हैं तो कई विद्वान इसे ग्रामीण जीवन और कृषि संस्कृति का शोक गीत स्वीकारते हैं। कुछ विद्वान तो ऐसे भी है कि जो इन उपन्यास को ग्रामीण भारण की आधुनिक ‘गीता’ तक स्वीकार करते हैं जो कुछ भी हो, ‘गोदान’ वास्तव में मुंशी प्रेमचन्द का एक ऐसा उपन्यास है, जिसमें आचार-विचार, संस्कार और प्राकृतिक परिवेश, जो गहन करूणा से युक्त है, प्रतिबिम्बित हो उठाा है। डॉ. गोपाल राय का कहना है कि गोदान ग्राम जीवन और ग्राम संस्कृति को उसकी सम्पूर्णता में प्रस्तुत करने वाला अदव्तीय उपन्यास है, न केवल हिन्दी के वरन किसी भी भारतीय भाषा के किसी भी उपन्यास में ग्रामीण समाज का ऐसा व्यापक यथार्थ और सहानुभूतिपूर्ण चित्रण नहीं हुआ है। ग्रामीण जीवन और संस्कृति के अंकन की दृष्टि से इस उपन्यास का वही महत्व है जो आधुनिक युग में युग जीवन की अभिव्यक्ति की दृष्टि से महाकाव्यों का हुआ करता था। इस प्रकार डॉ. राय गोदान को आधुनिक युग का महाकाव्य ही नहीं स्वीकारते वरन् सर्वश्रेष्ठ महाकाव्य भी स्वीकारते है। उनके इस कथन का यही आशय है कि प्रेमचन्द जी ने ग्राम जीवन से संबंध सभी पक्षों का न केवल अत्यन्त विशदता से चित्रण किया है, वरन् उनकी गहराइयों में जाकर उनके सच्चे चित्र प्रस्तुत कर दिए हैं। प्रेमचन्द जी ने जिस ग्राम जीवन का चित्र गोदान में प्रस्तुत किया है, उसका संबंध आज ग्राम परिवेश से न होकर तत्कालीन ग्राम जीवन से है। ग्रामीण जीवन को वास्तविक आधार प्रदान करने के लिए प्रेमचन्द जी ने चित्र के अनुरूप ही कुछ ऐसे खांचे अथवा चित्रफलक निर्मित किए हैं जो चित्र को यथार्थ बनाने में सहयोगी सिद्ध हुए हैं। ग्रामीण किसानों के घर द्वार, खेत-खलिहान और प्राकृतिक दृश्यों का ऐसा वास्तविक चित्रण अत्यन्त दुर्लभ है।

Question number: 13 (1 of 8 Based on Passage) Show Passage

» Reading Comprehension » Prose or Drama

MCQ▾

Question

‘सहानुभूति’ का सन्धि विच्छेद है

Choices

Choice (4) Response

a.

सह + अनुभूति

b.

सहान + भूति

c.

सहा + अनुभूति

d.

सहा: नुभूति

f Page
Sign In