CTET Paper-I Hindi: Questions 117 - 121 of 497

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 497 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 300.00 or

Question number: 117

» Pedagogy of Language Development » Learning and Acquisition

MCQ▾

Question

प्राथमिक स्तर पर भाषा शिक्षण की प्राथमिकता होनी चाहिए

Choices

Choice (4) Response

a.

केवल बोलकर पढ़ने की क्षमता विकसित करना

b.

कविता और कहानी के द्वारा केवल श्रवण कौशल का विकास करना

c.

बच्चों की रचनात्मकता और मौलिकता को पोषित करना

d.

बच्चों की चित्रांकन क्षमता का विकास करना

Question number: 118

» Pedagogy of Language Development » Principles of Language Teaching

MCQ▾

Question

शिक्षक की स्वयं की भाषा प्रयोग की कुशलता

Choices

Choice (4) Response

a.

बच्चों के भाषा प्रयोग पर कोई प्रभाव नहीं डालती

b.

बच्चों को आलंकारित भाषा प्रयोग के लिए प्रेरित करती है

c.

बच्चों को भाषा का अनुकरण के लिए बाध्य करती है

d.

बच्चों के भाषा प्रयोग के लिए आदर्श रूप प्रस्तुत करती है

Question number: 119

» Pedagogy of Language Development » Remedial Teaching

MCQ▾

Question

उपचारात्मक शिक्षण किस प्रकार का कार्य है?

Choices

Choice (4) Response

a.

आदेशात्मक

b.

अनुदेशनात्मक

c.

नकारात्मक

d.

सैद्धान्तिक

Question number: 120

» Pedagogy of Language Development » Grammar

MCQ▾

Question

मुहावरे और लोकोक्तियों का प्रयोग करना

Choices

Choice (4) Response

a.

व्याकरण का प्रमुख हिस्सा है

b.

हिन्दी भाषा शिक्षण का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य है

c.

भाषिक अभिव्यक्ति को प्रभावी बनाता है

d.

केवल गद्य पाठों के अभ्यासों का हिस्सा है

Question number: 121

» Pedagogy of Language Development » Grammar

MCQ▾

Question

व्याकरण शिक्षण को सरस एवं रूचिकर बनाने के लिए निम्नलिखित में से कौनसा उपाय नहीं किया जाना चाहिए?

Choices

Choice (4) Response

a.

व्याकरण की पाठ्यचर्या छात्रों के स्तरानुकूल बनाई जाए

b.

व्यावहारिक व्याकरण की शिक्षा भाषा संसर्ग विधि से दी जाए

c.

छात्रों को नियम व परिभाषाएँ रटने से प्रोत्साहित किया जाए

d.

व्याकरण शिक्षण को दृश्य श्रव्य सामग्री के प्रयोग से रोचक बनाया जाए

Sign In