Learning and Pedagogy (CTET in Hindi (Central Teacher Eligibility Test) Paper-II Child Development & Pedagogy): Questions 4 - 7 of 9

Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 49 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. Unlimited Access for Unlimited Time!

View Sample Explanation or View Features.

Rs. 100.00 or

How to register?

Question number: 4

» Learning and Pedagogy » How Children Think and Learn

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

‘सीखने के अन्त: दृष्टि सिद्धांत’ को किसने बढ़ावा दिया? (26 June)

Choices

Choice (4)Response

a.

वाइगोत्स्की।

b.

‘गेस्टाल्ट’ सिद्धांतवादी।

c.

पावलॉव।

d.

जीन पियाजे।

Question number: 5

» Learning and Pedagogy » Basic Processes of Teaching & Learning

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

सीखना समद्ध हो सकता है यदि- (26 June)

Choices

Choice (4)Response

a.

शिक्षक विभिन्न प्रकार के व्याख्यान और स्पष्टीकरण का प्रयोग करें।

b.

वास्तविक दुनिया से उदाहरणों को कक्षा में लाया जाए, जिसमें विद्यार्थी एक-दूसरे से अंत: क्रिया करें और शिक्षक उस प्रक्रिया को सुगम बनाए।

c.

कक्षा में अधिक से-अधिक शिक्षण सामग्री का प्रयोग किया जाए।

d.

कक्षा में आवधिक परिक्षाओं पर अपेक्षित ध्यान दिया गया।

Question number: 6

» Learning and Pedagogy » Basic Processes of Teaching & Learning

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

सीखने की प्रक्रिया में अभिप्रेरणा- (26 June)

Choices

Choice (4)Response

a.

शिक्षार्थियों में सीखने के प्रति रूचि का विकास करती है।

b.

शिक्षार्थियों को एक दिशा में सोचने के योग्य बनाती है।

c.

शिक्षार्थियों की स्मरण-शक्ति को पैना बनाती है।

d.

पिछले सीखे हुए को नए अधिगम से अलग करती है।

Question number: 7

» Learning and Pedagogy » Basic Processes of Teaching & Learning

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

शिक्षा के क्षेत्र में ‘पाठयचर्या’ शब्दावली……………. . की ओर संकेत करती है। (26 June)

Choices

Choice (4)Response

a.

कक्षा में प्रयुक्त की जाने वाली पाठ्‌य-सामग्री।

b.

शिक्षण -पदव्ति एवं पढ़ाई जाने वाली विषयवस्तु।

c.

मूल्यांकन-प्रक्रिया।

d.

विद्यालय का संपूर्ण कार्यक्रम, जिसमें विद्यार्थी प्रतिदिन अनुभव प्राप्त करते है।

Developed by: