Learning and Pedagogy (CTET in Hindi (Central Teacher Eligibility Test) Paper-II Child Development & Pedagogy): Questions 1 - 3 of 9

Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 49 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. Unlimited Access for Unlimited Time!

View Sample Explanation or View Features.

Rs. 100.00 or

How to register?

Question number: 1

» Learning and Pedagogy » Basic Processes of Teaching & Learning

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

एक शिक्षक को अपने लोकतांत्रिक स्वभाव के कारण विद्यार्थियों को पुरी कक्षा में कहीं भी बैठने की अनुमति देता है। कुछ शिक्षार्थी एक-साथ बैठते है और चर्चा करते हैं या सामूहिक पठन करते है। कुछ चुपचाप बैठकर अपने-आप पढ़ते है एक अभिभावक को यह पसंद नहीं आता। इस स्थिति से निपटने का निम्न में से कौन-सा तरीका सबसे बेहतर हो सकता है? (26 June)

Choices

Choice (4)Response

a.

अभिभावकों को शिक्षक पर विश्वास व्यक्त करना चाहिए और शिक्षक से समस्या पर चर्चा करनी चाहिए।

b.

अभिभावकों को प्रधानाचार्य से अनुरोध करना चाहिए कि वे उनके बच्चों का अनुभाग बदल देंं।

c.

अभिभावकों को प्रधानाचार्य से शिक्षक की शिकात करनी चाहिए।

d.

अभिभावकों को उस विद्यालय से अपने बच्चें को निकाल लेना चाहिए।

Question number: 2

» Learning and Pedagogy » Basic Processes of Teaching & Learning

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

एक शिक्षक को अपने विद्यार्थियों की क्षमताओं को समझने का प्रयास करना चाहिए। निम्नलिखित में से कौन-सा क्षेत्र इस उद्देश्य के साथ संबंध है? (26 June)

Choices

Choice (4)Response

a.

शिक्षा मनोविज्ञान।

b.

मीडिया-मनोविज्ञान।

c.

शिक्षा-समाजशास्त्र।

d.

सामाजिक दर्शन।

Question number: 3

» Learning and Pedagogy » Basic Processes of Teaching & Learning

Edit

Appeared in Year: 2011

MCQ▾

Question

आकलन को ‘उपयोगी और रोचक’ प्रक्रिया बनाने के लिए……… के प्रति सचेत होनी चाहिए। (26June)

Choices

Choice (4)Response

a.

प्रतिपुष्टि (फीडबैक) देने के लिए तकनीकी भाषा का प्रयोग करना।

b.

विद्यार्थियों को बुद्धिमान या औसत विद्यार्थी की आदि होना।

c.

अलग-अलग विद्यार्थियों में तुलना करना।

d.

शैक्षिक और सह-क्षैक्षिक क्षेत्रों में विद्यार्थी के सीखने के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए विविध तरिकों का प्रयोग करना।

Developed by: