क्षितिज(Kshitij-Textbook)-Textbook Questions (CBSE Class-10 Hindi): Questions 63 - 73 of 156

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 2295 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 1650.00 or

Passage

पद

(1)

ऊधौ, तुम हौ अति बड़भागी।

अपरस रहत सनेह तगा तैं, नाहिन मन अनुरागी।

पुरइनि पात रहत जल भीतर, ता रस देह न दागी।

ज्यौं जल माहं तेल की गागरि, बूंद न ताकौं लागी।

प्रीति-नदी मैं पाउं न बोरयौ, दृष्टि न रूप परागी।

’सूरदास’ अबला हम भोरी, गुर चाँटी ज्यौं पागी।।

(2)

मन की मन ही मांझ रही।

कहिए जाइ कौ पै ऊधौ, नाहीं परत कही।

अवधि अधार आस आवन की, तन मन बिथा सही।

अब इन जोग सँदेसनि सुनि-सुनि, बिरहिनि बिरह दही।

चाहति हुतीं गुहारि जितहिं तैं, उत तैं धार बही।

’सूरदास’ अब धीर धरहिं क्यौं, मरजादा न लही।।

(3)

हमारैं हरि हारिल की लकरी।

मन क्रम बचन नंद-नंदन उर, यह दृढ़ करि पकरी।

जागत सोवत स्वप्न दिवस-निसि, कान्ह-कान्ह जक री।

सुनत जोग लागत है ऐसौ, ज्यौं करुई ककरी।

सु तौ ब्याधि हमकौं लै आए, देखी सुनी न करी।

यह तौ ’सूर’ तिनहिं लै, सौंपौ, जिनके मन चकरी।।

(4)

हरि हैं राजनीति पढ़ि आए।

समुझी बात कहत मधुकर के, समाचार सब पाए।

इक अति चतुर हुते पहिलैं ही, अब गुरु ग्रंथ पढ़ाए।

बढ़ी बुद्धि जानी जो उनकी, जोग-सँदेस पठाए।

ऊधौं भले लोग आगे के, पर हित डोलत धाए।

अब अपनै मन फेर पाइहैं, चलत जु हुते चुराए।

ते क्यौं अनीति करैं आपुन, जे और अनीति छुड़ाए।

राज धरम तौ यहै ’सूर’, जो प्रजा न जाहिं सताए।।

Question number: 63 (3 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

गोपियों ने यह क्यों कहा कि हरि अब राजनीति पढ़ आए हैं? क्या आपको गोपियों के इस कथन का विस्तार समकालीन राजनीति में नज़र आता है, स्पष्ट कीजिए।

Question number: 64 (4 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

प्रस्तुत पदों के आधार पर गोपियों का योग-साधना के प्रति दृष्टिकोण स्पष्ट करें।

Question number: 65 (5 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

’मरजादा न लही’ के माध्यम से कौन-सी मर्यादा न रहने की बात की जा रही है?

Question number: 66 (6 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

उद्धव के व्यवहार की तुलना किस-किससे की गई हैं?

Question number: 67 (7 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

गोपियों ने उद्धव के सामने तरह-तरह के तर्क दिए हैं, आप अपनी कल्पना से और तर्क दीजिए।

Question number: 68 (8 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

संकलित पदों को ध्यान में रखते हुए सूर के भ्रमरगीत’ की मुख्य विशेषताएँ बताइए?

Question number: 69 (9 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

गोपियों के अनुसार राजा का धर्म क्या होना चाहिए?

Question number: 70 (10 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को गोपियों ने किस प्रकार अभिव्यक्त किया है?

Question number: 71 (11 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

उद्धव ज्ञानी थे, नीति की बातें जानते थे, गोपियों के पास ऐसी कौन-सी शक्ति थी जो उनके वाक्‌चातुर्य में मुखरित हो उठी?

Question number: 72 (12 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

उद्धव दव्ारा दिए गए योग के संदेशों ने गोपियों की विरह अग्नि में घी का काम कैसे किया?

Passage

सवैया

पांयनि नूपुर मंजु बजैं, कटि किंकिन कै धुनि की मधुराई।

सांवरे अंग लसै पट पीत, हिये हुलसै बनमाल सुहाई।

माथे किरीट बड़े दृग चंचल, मंद हँसी मुखचंद जुन्हाई।

जै जग-मंदिर-दीपक सुदंर, श्रीब्रजदूलह ’देव’ सहाई।।

कवित्त

डार द्रुम पलना बिछौना नव पल्लव के,

सुमन झिंगूला सोहै तन छबि भारी दै।

पवन झूलावै, केकी-कीर बरतावैं ’देव’

कोकिल हलावै-हलसावै कर तारी दै।।

पूरित पराग सों उतारो करै राई नोन,

कंजकली नायिका लतान सिर सारी दै।

मदन महीप जू को बालक बसंत ताहि,

प्रातहि जगावत गुलाब चटकारी दै।।

कवित्त

फटिक सिलानि सौं सुधार्‌यों सुधा मंदिर,

उदधि दधि को सो अधिकाइ उमगे अमंद।

बाहर ते भीतर लौं भीति न दिखैए ’देव’

दूध को सो फेन फैल्यों आंगन फरसबंद।

तारा सी तरुनि तामें ठाढ़ी झिलमिली होति,

मोतिन की ज्योति मिल्यो मल्लिका को मकरंद।

आरसी से अंबर में आभा सी उजारी लगै,

प्यारी राधिका को प्रतिबिंब सो लगत चंद।।

Question number: 73 (1 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Textbook Questions » देव सवैया, कवित्त

Short Answer Question▾

Write in Short

दूसरे कवित्त के आधार पर स्पष्ट करें कि ऋतुराज बसंत के बाल-रूप का वर्णन परंपरागत बसंत वर्णन से किस प्रकार भिन्न है।

Sign In