क्षितिज(Kshitij-Textbook)-Additional Questions (CBSE (Central Board of Secondary Education- Board Exam) Class-10 Hindi): Questions 753 - 765 of 1621

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 2295 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 1650.00 or

Question number: 753

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Short Answer Question▾

Write in Short

किसका “सूरसागर” तो मानो वात्सल्य और श्रृंगार का महासागर हैं?

Question number: 754

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » ऋतुराज कन्यादान

Short Answer Question▾

Write in Short

ऋतुराज जी दव्ारा रचित संकलित किन पदों में कवि की श्रेष्ठता सिद्ध करने में समर्थ है?

Question number: 755

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » ऋतुराज कन्यादान

Short Answer Question▾

Write in Short

ऋतुराज हिंदी साहित्य के किन कवियों में से एक है?

Passage

(3)

हमारैं हरि हारिल की लकरी।

मन क्रम बचन नंद-नंदन उर, यह दृढ़ करि पकरी।

जागत सोवत स्वप्न दिवस-निसि, कान्ह-कान्ह जक री।

सुनत जोग लागत है ऐसौ, ज्यौं करुई ककरी।

सु तौ ब्याधि हमकौं लै आए, देखी सुनी न करी।

यह तौ ’सूर’ तिनहिं लै, सौंपौ, जिनके मन चकरी।।

Question number: 756 (1 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

उद्धव द्वारा दिए गए निर्गुण उपासना संबंधी उपदेश को सुनकर गोपियाँ कैसी हो जाती है ं।

Explanation

… (1834 more words) …

Question number: 757 (2 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

सूरदास जी दव्ारा रचित उपर्युक्त पद के भाव-सौंदर्य क्या हैं?

Explanation

… (1987 more words) …

Question number: 758 (3 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

सूरदास द्वारा रचित प्रस्तुत पद ’सूरसागर’ में संकलित ’भ्रमरगीत’ में ’उद्धव संदेश’ नामक कौनसे खण्ड से उद्धृत है?

Explanation

… (1808 more words) …

Question number: 759 (4 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

सूरदास जी दव्ारा रचित उपर्युक्त पद के शिल्प-सौंदर्य क्या हैं?

Explanation

… (1890 more words) …

Passage

(2)

मन की मन ही मांझ रही।

कहिए जाइ कौ पै ऊधौ, नाहीं परत कही।

अवधि अधार आस आवन की, तन मन बिथा सही।

अब इन जोग सँदेसनि सुनि-सुनि, बिरहिनि बिरह दही।

चाहति हुतीं गुहारि जितहिं तैं, उत तैं धार बही।

’सूरदास’ अब धीर धरहिं क्यौं, मरजादा न लही।।

Question number: 760 (1 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

सूरदास जी दव्ारा रचित उपर्युक्त पद के शिल्प-सौंदर्य क्या हैं?

Explanation

… (2028 more words) …

Question number: 761 (2 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

सूरदास जी दव्ारा रचित उपर्युक्त पद के भाव-सौंदर्य क्या है?

Explanation

… (2113 more words) …

Question number: 762 (3 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

सूरदास दव्ारा रचित प्रस्तुत पद में गोपियों के पास योग-ज्ञान का संदेश लेकर कौन पहुँचते हैं?

Explanation

… (1901 more words) …

Question number: 763 (4 of 4 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » सूरदास पद

Essay Question▾

Describe in Detail

गोपियाँ कृष्ण से कैसा प्रेम करती हैं?

Explanation

… (1849 more words) …

Question number: 764

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » देव सवैया, कवित्त

Short Answer Question▾

Write in Short

देव दव्ारा रचित रचनाओं में ओर किसका निर्वाह किया है?

Question number: 765

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » ऋतुराज कन्यादान

Short Answer Question▾

Write in Short

कवि ऋतुराज दव्ारा रचित रचनाओं में उनकी भाषा किससे जुड़ी हुई है?

f Page
Sign In