क्षितिज(Kshitij-Textbook)-Additional Questions (CBSE Class-10 Hindi): Questions 621 - 631 of 1621

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 2295 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 1650.00 or

Passage

(2)

यश है या न वैभव है, मान है न सरमाया;

जितना ही दौड़ा तू उतना ही भरमाया।

प्रभुता का शरण-बिंब केवल मृगतृष्णा है,

हर चंद्रिका में छिपी एक रात कृष्णा है।

जो है यथार्थ कठिन उस का तू कर पूजन-

छाया मत छूना

मन, होगा दुख दूना।

Question number: 621 (2 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि मनुष्य को किसकी स्तुति करने को कह रहा है?

Question number: 622 (3 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि किनमें सामंस्य स्थापित करने को कह रहा है?

Question number: 623 (4 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि के अनुसार मनुष्य किस दुविधा में पड़ कर भ्रमित हो जाएगा?

Question number: 624 (5 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि अपने मन से क्या कह रहा है?

Question number: 625 (6 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग के शिल्प-सौंदर्य क्या है?

Question number: 626 (7 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में किसका अहसास तुम्हारे लिए मात्र मृगतृष्णा बन कर रह जाएगा?

Question number: 627 (8 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

कवि माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग में कवि ने क्या संदेश दिया है?

Question number: 628 (9 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि मनुष्य से क्या कह रहा है?

Question number: 629 (10 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग के भाव-सौंदर्य क्या है?

Question number: 630 (11 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग के भाव-सौंदर्य में कवि के अनुसार जीवन में क्या आता जाता रहता है?

Question number: 631 (12 of 13 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में सुख के बाद क्या आना निश्चित होता है?

Sign In