क्षितिज(Kshitij-Textbook) (CBSE Class-10 Hindi): Questions 865 - 874 of 1777

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 2295 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 1650.00 or

Question number: 865

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » मंगलेश डबराल संगतकार

Short Answer Question▾

Write in Short

मंगलेश डबराल के दव्ारा रचित मुख्य रूप से इनके चार कविता संग्रहों के नाम क्या है?

Question number: 866

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

उसके बाद गिरिजा जी ने कौनसा कार्य किया?

Passage

(3)

दुविधा-हत साहस है, दिखता है पंथ नहीं,

देह सुखी हो पर मन के दुख का अंत नहीं।

दुख है न चांद खिला शरद-रात आने पर,

क्या हुआ जो खिला फूल रस-बसंत जाने पर?

जो न मिला भूल उसे कर तू भविष्य वरण,

छाया मत छूना

मन, होगा दुख दूना।

Question number: 867 (1 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि के अनुसार समय बीतने के बाद किसकी उपादेयता नहीं रहती है?

Question number: 868 (2 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में बसंत में किसका महत्व अधिक होता है?

Question number: 869 (3 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि के अनुसार शरीर के आराम के लिए मनुष्य के पास क्या है?

Question number: 870 (4 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि के अनुसार मन में किसका अंत नहीं हो सकता है?

Question number: 871 (5 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में किसके जाने के बाद फूलों का खिलना मनुष्य को आनंद भी प्रदान कर सकता है?

Question number: 872 (6 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि के अनुसार कई बार समय बीतने के बाद उपलब्धि मनुष्य को क्या प्रदान करती है?

Question number: 873 (7 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

माथुर दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग की व्याख्या में कवि के अनुसार मन को किस बात का दुख है?

Question number: 874 (8 of 12 Based on Passage) Show Passage

» क्षितिज(Kshitij-Textbook) » Additional Questions » गिरिजाकुमार माथुर छाया मत छूना

Short Answer Question▾

Write in Short

कवि माथुर जी दव्ारा रचित प्रस्तुत प्रसंग के भाव-सौंदर्य क्या है?

f Page
Sign In