कृतिका (Kritika-Textbook) (CBSE Class-10 Hindi): Questions 333 - 349 of 461

Get 1 year subscription: Access detailed explanations (illustrated with images and videos) to 2295 questions. Access all new questions we will add tracking exam-pattern and syllabus changes. View Sample Explanation or View Features.

Rs. 1650.00 or

Passage

हिचकोले खाती हमारी जीप थोड़ी और आगे बढ़ी। अपनी लुभावनी हँसी बिखरते हुए जितेन बताने लगा…. . इस जगह का नाम कवी-लोंग स्ऑक। यहाँ ’गाइड’ फिल्म की शूटिंग हुई थी। तिब्बत के चीस-खे बम्सन ने लेपचाओं के शोमेन से कुंजतेक के साथ संधि-पत्र पर यहीं हस्ताक्षर किए थे। एक पत्थर यहाँ स्मारक के रुप में भी है। (लेपचा और भुटिया सिकिकम की इन दोनों स्थानीय जातियों के बीच चले सुदीर्घ झगड़ों के बाद शांति वार्ता का शुरुआती स्थल।)

उन्हीं रास्तों पर मैंने देखा-एक कुटियर के भीतर घूमता चक्र। यह क्या? नार्गे कहने लगा…. ”मेडम यह धर्म चक्र है। प्रेयल फिल। इसको घुमाने से सारे पाप धुल जाते हैं।”

”क्या? ” चाहे मैदान हो या पहाड़, तमाम वैज्ञानिक प्रगतियो के बावजूद इस देश की आत्मा एक जैसी। लोगों की आस्थाएँ, विश्वास, अंधविश्वास, पाप-पुण्य की अवधारणाएँ और कल्पनाएँ एक जैसी।

Question number: 333 (4 of 7 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

कवी-लोंग स्टॉक नामक जगह में फिल्म की शूटिंग के अलावा ओर क्या हुआ था?

Question number: 334 (5 of 7 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

इस चक्र के विषय में नार्गे ने क्या बताया?

Question number: 335 (6 of 7 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

यहांँ एक जैसा क्या है?

Question number: 336 (7 of 7 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

कुटिया के भीतर लेखिका ने क्या देखा?

Passage

यह भीतरी विवशता क्या होती है? इसे बखानना बड़ा कठिन है। क्या वह नहीं होती यह बताना शायद कम कठिन होता है। या उसका उदाहरण दिया जा सकता है-कदाचित्‌ वही अधिक उपयोगी होगा। अपनी एक कविता की कुछ चर्चा करूँ जिससे मेरी बात स्पष्ट हो जाएगी।

Question number: 337 (1 of 2 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » मैं क्यों लिखता हूँ?

Short Answer Question▾

Write in Short

इस विवशता को स्पष्ट करने के लिए लेखक क्या करता हैं?

Question number: 338 (2 of 2 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » मैं क्यों लिखता हूँ?

Short Answer Question▾

Write in Short

किसे बखानना बड़ा कठिन हैं?

Passage

बहरहाल… गैंगटाक से 149 किलोमीटर दूर पर यूमथांग था। ” यूमथांग यानी घाटियाँ…. . सारे रास्ते हिमालय की गहनतम घाटियाँ और फूलों से लदी वादियाँ मिलेंगी आपको” ड्राइवर-कम-गाइड जितेन नार्गे मुझे बता रहा था। ”क्या वहाँ बर्फ़ मिलेगी? ” मैं बचकाने उत्साह से पूछने लगती हूँ।

चलिए तो…. ।

Question number: 339 (1 of 3 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

गैंगटाक से यूमथांग कितने किलोमीटर दूर था?

Question number: 340 (2 of 3 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

यूमथांग में क्या देखने को मिलता है?

Question number: 341 (3 of 3 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

वहाँं का गाइड कौन था व उसका नाम क्या था?

Passage

हम लगातार ऊँचाइयों पर चढ़ते जा रहे थे। जितेन बता रहा था, अब हम हर मोड़ पर हेयर पिन बेंट लेंगे और तेज़ी से ऊँचाई पर चढ़ते जाएँगे। हेयर पिन बेंट के ठीक पहले एक पड़ाव पर देखा सात-आठ वर्ष की उम्र के ढेर सारे पहाड़ी बच्चे स्कूल से लौट रहे थे और हमसे लिफ्ट माँग रहे थे। जितेन ने बताया हर दिन तीन-साढ़े तीन किलोमीटर की पहाड़ी चढ़ाई चढ़कर स्कूल जाते हैं।

”क्या स्कूली बस नहीं? ”

मणि के पूछने पर जितेन हँस पड़ा, ”मैडम यह मैदानी नहीं पहाड़ी इलाका है। मैदान की तरह यहाँ कोई भी आपको चिकना वर्बीला (बढ़े हुए पेट वाला) नहीं मिलेगा। यहाँ जीवन कठोर है। नीचे तराई में ले देकर एक ही स्कूल है। दूर-दूर से बच्चे उसी स्कूल मेें जाते हैं। और सिर्फ़ पढ़ते ही नहीं हैं, इनमें से अधिकांश बच्चे शाम के समय अपनी माँओं के साथ मवेशियों को चराते हैं, पानी भरते हैं, जंगल से लकड़ियों के भारी-भारी गट्ठर ढोते हैं। खुद मैंने भी ढोए थे।”

Question number: 342 (1 of 3 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

मणि ने क्या पूंछा?

Question number: 343 (2 of 3 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

मणि के पूछने पर जितेन ने क्या जबाव दिया?

Question number: 344 (3 of 3 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » साना-साना हाथ जोड़ि

Short Answer Question▾

Write in Short

वहाँं के बच्चे स्कूल कैसे जाते है?

Passage

यह आंदोलन चल रहा था। जॉर्ज पंचम की नाक के लिए हथियार बंद पहरेदार तैनात कर दिए गए थे, क्या मजाल कि कोई उनकी नाक तक पहँुच जाए। हिंदुस्तान में जगह-जगह ऐसी नाकें खड़ी थीं। और जिन तक लोगों के हाथ पहुँच गए उन्हें शानो-शौकत के साथ उतारकर अजायबघरों में पहुँचा दिया गया। कहीं-कहीं तो शाही लाटों (खंभा, मूर्ति) की नाकों के लिए गुरिल्ला युद्ध होता रहा…. .

उसी जमाने में यह हादसा हुुआ, इंडिया गेट के सामने वाली जॉर्ज पंचम की लाट की नाक एकाएक गायब हो गई! हथियारबंद पहरेदार अपनी जगह तैनात रहे। गश्त लगती रही और लाट की नाक चली गई।

Question number: 345 (1 of 4 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » जॉर्ज पंचम की नाक

Short Answer Question▾

Write in Short

किन नाको को अजायबघर पहुंँचा दिया गया था?

Question number: 346 (2 of 4 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » जॉर्ज पंचम की नाक

Short Answer Question▾

Write in Short

मूर्ति की शाही नाको के लिए कौनसा युद्ध होता रहा?

Question number: 347 (3 of 4 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » जॉर्ज पंचम की नाक

Short Answer Question▾

Write in Short

जॉर्ज पंचम की नाक के लिए क्या किया गया था?

Question number: 348 (4 of 4 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » जॉर्ज पंचम की नाक

Short Answer Question▾

Write in Short

उस जमाने में क्या हादसा हुआ था?

Passage

सहसा दुलारी ने भी अपनी खड़की खोली और मैंचेस्टर तथा लंका -शायर के मिलों की बनी बारीक सुत की मखमली किनारे वाली नयी कोरी धोतियों का बंडल नीचे फैली चादर पर फेंक दिया। चादर सँभालने वाले चारों व्यक्तियों की आँखें एक साथ खिड़की की ओर उठ गई; कारण, अब तक जितने वस्त्रों का संग्रह हुआ था वे अधिकांश फटे-पुराने थे। परंतु यह जो नया बंडल गिरा उसकी धोतियों की तह तक न खुली थी। चारों व्यक्तियों के साथ जुलूस में शामिल सभी लोगों की आँखें बंडल फेंकने वाली की तलाश खिड़की में करने लगीं, त्योंही खिड़की पुन: धड़ाके से बंद हो गई। जुलूस आगे बढ़ गया।

Question number: 349 (1 of 1 Based on Passage) Show Passage

» कृतिका (Kritika-Textbook) » Prose » एही ठैयाँ झुलती हेरानी हो रामा!

Short Answer Question▾

Write in Short

चादर सँभालने वाले चारों व्यक्तियों की आँखें एक साथ खिड़की की ओर क्यों उठी?

f Page
Sign In